Comments & Ratings: *हास्य कविता*
Next >>
anand anand ,नारी शक्ति की जय हो,

पुरुष प्रकृति एक ही है ,
कर्म विभाजन से अलग है

वस्तुत दोनाे महान है
एकदुसरे के पुरक है
914 days ago

anand anand Rating: 9
914 days ago

ॐ 🐙 🐙 wonder ful
915 days ago

ॐ 🐙 🐙 Rating: 10
915 days ago

BIGdost ╭∩╮(︶.. Rating: 9
915 days ago

Next >>