Comments & Ratings: हिसाब
Next >>
upendra Singh *हम तो हँसते हैं दूसरों को हँसाने के लिए*

*वरना ज़ख्म तो इतने हैं कि ठीक से रोया भी नहीं जाता*
438 days ago

upendra Singh Rating: 10
438 days ago

Next >>