Writings

Most Recent : Poem
Submit your own.  My Writings
Browse
Most Viewed
Top Rated
Most Recent

Category
All
Joke
Poem
Recipe
Other

Write your own
score: 9.30162

by: Saloni
average: 10.0

on: Oct 16, 2020
ratings: 1

language: hi



है दुर्गा माँ
सिंह की सवार बनकर
रंगों की फुहार बनकर
पुष्पों की बहार बनकर
सुहागन का श्रंगार बनकर
तुम्हारा स्वागत है दुर्गा माँ तुम आओ।

भूखे का निवाला बन कर
खुशियों का अपार बन कर
सब के जीवन को संवार कर
रसोई में प्रसाद बन कर
तुम्हारा स्वागत है दुर्गा माँ तुम आओ।

सारे संसार को उजाला बना कर
सब के दुख हर कर
सब पर आशीर्वाद बनकर
तुम्हारा स्वागत है दुर्गा माँ तुम आओ ।

🙏🙏🙏🙏

नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

by: Saloni
average: 10.0

on: Oct 11, 2020
ratings: 1

language: hi



रविवार पलायन करता है जैसे
एक हसीन सपना हो जैसे।
आज ही दिन मिलता है फुरसत के पल वैसे।
झट से गुजर जाता है कैसे ।
प्यारी ज़िन्दगी की ऐसी तैसी
क्यों नहीं सकून से जीने नहीं देती
जैसे हम चाहते है वैसे ।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

by: Saloni
average: 10.0

on: Oct 11, 2020
ratings: 1

tags: चाय
language: hi



चाय हूँ मैं,
नुखर की पहचान हूँ मैं,
किसी की मुस्कान हूँ मैं।

चाय हूँ मैं,
दोस्तों के माहौल को गरम ,
करती हूँ मैं,
सब मुझे खुशी खुशी पी कर ,
भूल जाते हैं अपने गम।

चाय हूँ मैं,
सब के दिलो में ,
राज़ करती हूँ मैं,
किसी की हमराज़ हूँ मैं,
गरीबों की शान हूँ मैं,
अमीरों की थकान ,
दूर करती हूँ मैं,
पाई जाती हूँ मैं ,
हर दुकान में,
क्यूं की चाय हूँ मै।
Saloni
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Oct 6, 2020
ratings: 11

tags: कुछ
language: hi

मेरे-तुम्हारे बीचकुछ नही है....
बस है तो कुछ वक़्त
कुछ शब्द कुछ आवाज़ें
कुछ कशिश....
हर बार की गई
एक छोटी सी कोशिश.....
समझने की कुछ और
लम्हें जी लेने की क़वायद
कुछ और मुस्कुरा लेने
की फिर से तैयारी....
कुछ और साथ निभाने
का वादा और.....?
कुछ नहीं है मेरे-तुम्हारे बीच.....
कुछ भी नहीं......!!❤️
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Oct 6, 2020
ratings: 2

tags: friends
language: hi

क्या जानो तुम बेवफाई की हद दोस्तों,
वो हमसे इश्क सीखती रही किसी ओर के लिए।
वो अपने मेहंदी वाले हाथ मुझे दिखा कर रोई,
अब मैं हुँ किसी और की ये मुझे बता कर रोई,
पहले कहती थी कि नहीं जी सकती तेरे बिन,
आज फिर से वो बात दोहरा कर रोई,
कैसे कर लुँ उसकी महोब्बत पे शक यारो,
वो भरी महफिल में मुझे गले लगा कर रोई।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 8.19784

average: 1.0

on: Sep 14, 2020
ratings: 1

tags: Friends
language: hi

*_मैं हिन्दी हूं ।।_*

*_हिंदी दिवस (१४ सितं.) पर विशेष_*

_मैं *सूरदास की दृष्टि* बनी_
_*तुलसी हित चिन्मय सृष्टि* _बनी_
_मैं *मीरा के पद की मिठास*_
*_रसखान के नैनों की उजास_*
_मैं हिन्दी हूं ।।_

_मैं *सूर्यकान्त की अनामिका*_
_मैं *पन्त की गुंजन पल्लव* हूं_
_मैं हूं *प्रसाद की कामायनी*_
_मैं ही *कबीरा की हूं बानी*_
_मैं हिन्दी हूं ।।_

_*खुसरो की इश्क मजाजी* हूं_
_मैं *घनानंद की हूं सुजान*_
_मैं ही *रसखान के रस की खान*_
_मैं ही *भारतेन्दु का रूप महान*_
_मैं हिन्दी हूं ।।_

_*हरिवंश की हूं मैं मधुशाला*_
_*ब्रज, अवधी, मगही की हाला*_
*_अज्ञेय मेरे हैं भग्नदूत_*
_*नागार्जुन की हूं युगधारा*_
_मैं हिन्दी हूं ।।_

_मैं *देव की मधुरिम रस विलास*_
_मैं *महादेवी की विरह प्यास*_
_मैं ही *सुभद्रा का ओज गीत*_
_*भारत के कण-कण में है वास*_
_मैं हिन्दी हूं ।।_

_मैं *विश्व पटल पर मान्य बनी*_
_मैं *जगद्गुरु अभिज्ञान* बनी_
_मैं *भारत मां की प्राणवायु*_
_मैं *आर्यावर्त अभिधान* बनी_
_मैं हिन्दी हूं।।_

_मैं *आन बान और शान बनूं*_
_मैं *राष्ट्र का गौरव मान बनूं*_
_यह दो *तुम मुझको वचन आज*_
_मैं *तुम सबकी पहचान बनूं*_
_मैं हिन्दी हूं।।_

*_हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं_...*
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Sep 7, 2020
ratings: 1

tags: Friends.
language: hi

तुम'
इक नाम नहीं, एहसास हो ,

'तुम'
मेरी कहानी नहीं,अलफाज़ हो,

'तुम'
जिंदगी ही नहीं जीने का अंदाज हो,

'तुम'
अरमान ही नहीं मेरा विश्वास हो,

'तुम'
मुझसे दूर सही मगर सबसे पास हो

'तुम' ।❤
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Aug 22, 2020
ratings: 1

tags: Raaj
language: hi

Pyar Aankho Se Jataya Toh Bura Maan Gaye,
Haal-e-Dil Humne Sunaya Toh Bura Maan Gaye,
Woh Toh Har Roz Rulaya Karte The Hamien,
Ek Roz Humne Rulaya Toh Bura Maan Gaye.

Haal-e-Dil Apna Kya Sunaayein Aapko,
Gham Se Baatein Karna Aadat Hai Hamari,
Log Marte Hain Sirf Ek Baar Sanam,
Pal Pal Roj Marna Aadat Hai Hamari.

Aisi Kardi Hai Tumne Meri Halat Ya Rab,
Haal-e-Dil Kisi Ko Suna Na Paaunga,
Tujhse Kiya Hai Vada Tabhi Majboor Hun,
Isi Liye Khud Ko Main Mita Na Paaunga.

Kami Hai Mujh Mein Toh Bas Itni Mere Dosto,
Haal-e-Dil Apna Sabhi Ko Suna Deta Hun Main,
Maalum Hai Mujhko Ki Koyi Saath Nahi Deta,
Fir Bhi Dil Se SabKo Apna Bana Leta Hun Main.

Mulakat Toh Huyi Thi Unse Ek Roj Magar,
Hum Haal-e-Dil Unko Apna Sunate Kaise,
Hamari Takdeer Mein Hi Likha Hai Rona Magar,
Zakhm Apne Hum Unko Dikhakar Rulate Kaise.

Sach Hai Ke Hum Mohabbat Se Darte Hain,
Kyunki Yeh Pyar Dil Ko Bahut Tadpata Hai,
Aankhon Aansu Toh Hum Chhupa Sakte Hain,
Haal-e-Dil Duniya Ko Maalum Ho Jata Hai
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.48946

average: 10.0

on: Aug 10, 2020
ratings: 5

tags: Raaj
language: hi

Jab Hum Tumse Kahin Dur Chale Jaayenge
Wada Hai Ki Tumhe Bohut Yaad Aayenge

Abhi Nahi Hai Waqt Tumhe Hamse Milne K Liye
Tab Tumhe Saare Bite Pal Yaad Aayenge

Karoge Dua Khuda Se Ek Mulakat K Liye Bhi
Par Tab Tak Ham Bohut Dur Chale Jaayenge

Meri Har Arzoo Jo Hoti Hai Tumse Puri
Bas Unhi Yaadon K Pal Saath Reh Jaayenge

Abhi Hai Pal To Jee Lo Kuch Pal Bhi Saath Mere
Jab Chale Jaayenge Ham To Tadapte Hi Reh Jaoge

Doge Aawaj Kabhi To Ham Na Laut Paayenge
Shayad Tab Tak Hamare Laut Aane K Har Raaste Band Ho Jaayenge

Karta Hoon Gujarish Tumse Na Hone Do Mujhe Apne Se Juda
Jo Gaye Bichad Tumse Ek Baar To Fir Kabhi Na Ham Mil Paayenge
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.43918

by: Sujal
average: 10.0

on: Aug 5, 2020
ratings: 4

language: hi


अकेलेपन का बल पहचान
शब्द कहाँ जो तुझको टोके
हाथ कहाँ जो तुझको रोके
राह वही है, दिशा वही है, तू करे जिधर प्रस्थान
अकेलेपन का बल पहचान ।

जब तू चाहे तब मुसकाए,
जब चाहे तब अश्रु बहाए,
राग वही तू जिसमें गाना चाहे अपना गान ।
अकेलेपन का बल पहचान ।

तन-मन अपना, जीवन अपना,
अपना ही जीवन का सपना,
जहां और जब चाहे कर दे तू सब कुछ बलिदान ।
अकेलेपन का बल पहचान ।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.53147

average: 10.0

on: Aug 2, 2020
ratings: 6

language: hi

..........रक्षा बन्धन :..........
सावन के महीने मे बारिश की फुहार,
चारो और फैली हुई ही हरियली की बहार,
लेके अया है रक्षा बन्धन का त्योहार,
छलका एक दुजे के लिये भाई बहन का प्यार,

रंग बिरंगे कपडो मे सजकर बहना आई,
हंसी खुशी कलाई मे राखी बनवाये भाई ,
भाई के लम्बी उम्र की कामना कर्ती है बहना,
सदा रक्षा करूंगा तुम्हारी भाई का है कहना,..........
.
राखी की त्योहर का नाथा है पुराना
भाई बहन का तो है जनम से नाता
आजकल तो देश मे हर एक बच्छा का है नारा
किसी से भी होता है भाई बहन की रिश्ता .. ...............राज

XXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXX

इसका उदहरण तो मिलता है पुराणो मे भी भाई
द्रौपदी ने कृष्ण को माना था अपना भाई
पंच पांडव लोकवीर पति होने के बावजूद भी
द्रौपदी का वस्त्रा हरण हुआ राजसभा में . ...

कृष्ण ने बचाया बहन के लाज और रखा राखी की लाज
राजस्थान की रानी करनवती ने मुश्किल की घड़ी मे
राखी भेज कर मोघल चक्रवर्ती से मांगी थी मदद
हुमायूं ने दौडा अया था बहन की राखी की मान रखने ............... शरू
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Jun 24, 2020
ratings: 2

language: hi

कैसे कह दूँ, मुझको उससे प्यार नहीं है
मरता है दिल जिस पर,उसका इंतज़ार नहीं है

खोयी-खोयी रहती हूँ, जिसके दीदार में
हर पल, तनहा दिल उसका बीमार नहीं है

दोनों जहाँ हारे जिसकी मुहब्बत में,उसके
सुख-दुख से हमारा कोई सरोकार नहीं है

वही तो है मेरी अफ़कार,अशआर की दुनिया
उसके सिवा, दूसरा कोई ख़तावार नहीं है

बेशकीमती है यह गमगाही मुहब्बत, मगर
बिके जहाँ में, बना ऐसा कोई बाज़ार नहीं है

कैसे कह दूँ कि मुलाकात नहीं होती है
रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती है

आप लिल्लाह न देखा करें आईना कभी
दिल का आ जाना बड़ी बात नहीं होती है

छुप के रोता हूँ तेरी याद में दुनिया भर से
कब मेरी आँख से बरसात नहीं होती है

हाल-ए-दिल पूछने वाले तेरी दुनिया में कभी
दिन तो होता है मगर रात नहीं होती है

जब भी मिलते हैं तो कहते हैं कैसे हो "शकील"
इस से आगे तो कोई बात नहीं होती है
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: Jun 22, 2020
ratings: 3

language: hi

(hastye rotye usk gam mujh d d
sotye jagtye usk jakham mujh d d
uski tasvir hi meri duniya ki khuwaish h
ab jeetye martye usk bharam mijh d d)


(khuwaisho n meri umid ko bhadaya h
khuwaisho n meri ajmaish ko sataya h
main rota hu bin usk
qki khuwaisyo n meri wafa ko jalaya h)


(hume bhi khuwaish h usk sath kadam s kadam chalne ko
hume bhi khuwaish h uski god m sher rakh kar shone ko
main mita nahi y khuwaishyein lekar
qki hume bhi khuwaish h uski bahoo m simatne ko)


(jinda h jndg qki tu mujhm jinda h
y khuwaisyein mujhm din raat jagti hain
sharminda h jndg qki tu mujhm sharminda h
y khuwaiahyein mujhm sham sawerye marti hain)


(usm jab-2 simti gharaiya
tab-2 mohobat n khuwaishyein jagai
usm jab-2 mili sokhiya
tab-2 mohobat n khiwaishyein bhulai)




(hain khuwaishyein
rhayengi khuwaishyein
usk lotne ki yaado m
bhul gaya jis din y dil khud ko
us din s
thi khuwaishyein
rhayeingi khuwishyein
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.43918

average: 10.0

on: Jun 10, 2020
ratings: 4

tags: poem
language: hi

Koi kasar na chodi thi, mashle ko hal karne me,,
Fir bhi chal raha hoon, shikayato ka bojh uthate-uthate,,
.....Bahoot koshis ki is , jalim duniya ne rulane ki,,
.....Fir bhi chal raha hoon, palko pe aansu sukhate-sukhate,,
Bahoot baar sataya , in risto ki shajisho ne,,
Fir bhi chal raha hoon, dil pe marham lagate-lagate,,
.....Kashoorwar nahi thaharya, ab tak tumne mujhko,,
.....Fir bhi chal raha hoon, tumse najare churate-churate,,
Bahoot see baate tumhari, samjh se pare hai meri,,
Fir bhi chal raha hoon, tumhari haa me haa milate-milate,,
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

by: Saloni
average: 0

on: Mar 21, 2020
ratings: 0

language: hi

कविता हमे रच रही है
ज़िन्दगी के रंगों के साथ सज रही हैं
कभी बचपन
कभी जवानी
कभी बुढ़ापा
हर पल सीख दीखलाई जा रही है
और
हर वक़्त सीखाई जा रही है
यह जीवन की कहानी है
तन्हाइयों से भरी हुई है
मेरी कलम की स्याही कुछ अनकही दर्द की वाते कह रही है
कभी खुशी के अक्षू निकल रहे है
जैसे पहले कविता को सजा रहे है
हर शब्द रच रहे है
यूं ही शब्दों के साथ खेलते जा रहे है
कविता हमे रच रही है
यह सच है
मन को जांच रही है
सलोनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

by: Saloni
average: 10.0

on: Mar 7, 2020
ratings: 3

language: hi

अब नहीं बेचारी नारी,
प्रीत से भरी नारी,
ममता की सूरत है नारी।

कौन कहता है की अबला
है नारी,
हर क्षेत्र में अव्वल
पुरुष के साथ पग-पग,
कंधा मिलाए है नारी।
समुद्र से आकाश,
थल से पहाड़ तक,
अपना संघर्ष दिखाया है,
अपने परिश्रम से,
ददेश को हर बार ऊपर उठाया है,
सलोनी के कलम से सारी नारियों को प्रणाम।
🌹🌹🌹
🌺🌺🌺
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

average: 0

on: Mar 4, 2020
ratings: 0

tags: friends
language: hi

मैं कहीं लापता हो गया हूँ
शायद आपका हो गया हूँ

खुद को नज़र आता नहीं
मैं कोई हादसा हो गया हूँ

पहुँचोगे कैसे मुझ तक
मैं खोया पता हो गया हूँ

तुझे पाकर तो लगता है
खुद से यूं जुदा हो गया हूँ

वफ़ा ढ़ोते ढ़ोते आखिर दम
शायद बेवफ़ा हो गया हूँ

दिलवर मुझे इतना बता दे
तेरा मैं क्या क्या हो गया हूँ
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

average: 0

on: Mar 4, 2020
ratings: 0

tags: friends
language: hi

कुछ लोग भी हमसे इस कदर खफ़ा हैं
या तो वो बेवफ़ा या हम बेवफ़ा हैं !!

नब्ज देख कर बता देता है वो हबीब
मेरी हर मर्ज़ की आप ही तो दवा हैं !!

वो कभी समझते नहीं मेरे जज्बात को
और हम भी आजकल उन्हीं पर फ़िदा हैं !!

कब से जारी है मुझको तलाश अपनी ही
आज तक न जाने हम कहाँ लापता हैं !!

अपने आपको छल रहे हैं लोग आजकल
न जाने अब कहाँ देखते आइना हैं !!
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.48946

average: 10.0

on: Feb 14, 2020
ratings: 5

language: hi

..................कायराना दुस्साहस !........................

पुलवामा में देश के दुश्मनों ने दिया बर्बरता को अंजाम ।
चालीस सेनिकों का खून बहाकर किया नीचता भरा काम ॥

इनके सात पुश्तै याद करें ऐसी दो इन दहशतगर्दों को सजा ।
फिर कभी भारत की तरफ ना देखें चखा दो ऐसा मजा ॥

जो बहा है खून शहीदों का वो पवित्र खून जाने ना पाए जाया ।
जो पाल रहा है इन दहशतगर्दों को उस मुल्क का ही करदो सफाया॥

इस नामुराद ओछी हरकत से इस देश को डरा ना पाओगे ।
कट जाए जो देश की आन के लिए उस सर को झुका ना पाओगे

जिसने अपना बेटा, भाई, पति खोया है होगी नहीं उनकी भरपाई।
फिर भी देश की आन के लिए जान देने में पिछे नहीं हटेगा फौजी भाई ॥

पुलवामा में दहशतगर्दों ने की है जो नीच हरकत करते हैं उसकी निंदा ।
पर खाते हैं आज कसम उन गुनाहगारों में एक भी ना बच पाए जिंदा ॥

अमर शहीदों की कुर्बानी में जहाँ पूरे देश की आँखे हुई है नम ।
वहीं शहीदों के अपनों की छाती हुई चौड़ी, भले हो अपनों को खोने का गम ॥
............................................................................द्वारा............राजेश सिंह ॥

 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.56709

average: 10.0

on: Feb 10, 2020
ratings: 7

language: hi

----हारना मत तुम हिम्मत-------

छ:दिन तक सिने पर उठाया तुमने बफॆ का पहाड़।
धरती मां के लाल तुमने मौत को भी दिया पछाड़।
तुम्हारी सलामती की दूवा के लिए उठे हैं करोड़ो हाथ।
याहां तक आकर छोड़ना मत तुम हमलोगो का साथ।

कुदरत और विधाता को शायद यही मंजुर था होना।
नौ साथी खो चूके हम अब तुमको नही चाहते खोना।
किसी भी सुरत मे हमे निराश ना करना ओ हनुमन्ता।
तुम्हारे होश मे आने की राह देख रहे सभी और दो-दो माता।

अमी तो बाकी हे उतारना तुमको मां के दुध का कजॆ।
अभी तुमको और नीभाना हे धरती मां के रक्षा का फजॆ।
तुमको बचाकर रहेगें चाहे देश को चुकानी पड़े कोई भी किमत।
बस शतॆ यही हे कि किसी भी सुरत हारना मत तुम हिम्मत।

डाक्टरो की कोशिश और देशवासियो की दूवा लाए रगं।
प्रार्थना में जुड़े है हजारों हाथ जीत के आवो तुम जंग ।।।

...............................................................द्वारा- राजेश सिहं । ...old post

( VERY SORRY TO KNOW THAT LANCE NAIK HANUMANTAPPA IS NO MORE TO HEAR OUR PRAYER. MAY HIS SOUL REST IN PEACE )

 
Rate & comment on this.
 
 
 [1]  2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20  >>