Writings

Top Rated : Other
Submit your own.  My Writings
Browse
Most Viewed
Top Rated
Most Recent

Category
All
Joke
Poem
Recipe
Other

Write your own
score: 9.66804

average: 10.0

on: Sep 28, 2011
ratings: 11

language: hi

Its heart touching.. .
LOVE VS GOD...
'muje kaha khuda ne.'mat kr intzar is janam me uska milna muskil hai'
Mene b keh diya..'len e de maza intzar ka...agle janam me to mumkin hai.'..
Fir usne kaha..'mt kr itna pyar bahut pachtayega ,..muskura ke mene kaha..'dek hte hain tu kitna meri ruh ko tadpayega. ..
Fir usne kaha."hata use chal tuje jannat ki nur se milata hu",
Mene kaha.."aa niche dekh mere pyar ka muskurata chahra tuje jannt ki nur bhulata hu",..
Tilmilakr kaha usne.."mt bhul apni aukat tu hai to insan",..
Mene kaha,"to mila de muje mere pyar se or sabit kr ki tu b hai bagwan"...
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Jan 23, 2012
ratings: 11

tags: tkb
language: hi

आयुर्वेदिक दोहे


1.जहाँ कहीं भी आपको,काँटा कोइ लग जाय।
दूधी पीस लगाइये, काँटा बाहर आय।।


2.मिश्री कत्था तनिक सा,चूसें मुँह में डाल।
मुँह में छाले हों अगर,दूर होंय तत्काल।।


3.पौदीना औ इलायची, लीजै दो-दो ग्राम।
खायें उसे उबाल कर, उल्टी से आराम।।


4.छिलका लेंय इलायची,दो या तीन गिराम।
सिर दर्द मुँह सूजना, लगा होय आराम।।


5.अण्डी पत्ता वृंत पर, चुना तनिक मिलाय।
बार-बार तिल पर घिसे,तिल बाहर आ जाय।।


6.गाजर का रस पीजिये, आवश्कतानुसार।
सभी जगह उपलब्ध यह,दूर करे अतिसार।।


7.खट्टा दामिड़ रस, दही,गाजर शाक पकाय।
दूर करेगा अर्श को,जो भी इसको खाय।।


8.रस अनार की कली का,नाक बूँद दो डाल।
खून बहे जो नाक से, बंद होय तत्काल।।


9.भून मुनक्का शुद्ध घी,सैंधा नमक मिलाय।
चक्कर आना बंद हों,जो भी इसको खाय।।


10.मूली की शाखों का रस,ले निकाल सौ ग्राम।
तीन बार दिन में पियें, पथरी से आराम।।


11.दो चम्मच रस प्याज की,मिश्री सँग पी जाय।
पथरी केवल बीस दिन,में गल बाहर जाय।।


12.आधा कप अंगूर रस, केसर जरा मिलाय।
पथरी से आराम हो, रोगी प्रतिदिन खाय।।


13.सदा करेला रस पिये,सुबहा हो औ शाम।
दो चम्मच की मात्रा, पथरी से आराम।।


14.एक डेढ़ अनुपात कप, पालक रस चौलाइ।
चीनी सँग लें बीस दिन,पथरी दे न दिखाइ।।


15.खीरे का रस लीजिये,कुछ दिन तीस ग्राम।
लगातार सेवन करें, पथरी से आराम।।


16.बैगन भुर्ता बीज बिन,पन्द्रह दिन गर खाय।
गल-गल करके आपकी,पथरी बाहर आय।।


17.लेकर कुलथी दाल को,पतली मगर बनाय।
इसको नियमित खाय तो,पथरी बाहर आय।।


18.दामिड़(अनार) छिलका सुखाकर,पीसे चूर बनाय।
सुबह-शाम जल डाल कम, पी मुँह बदबू जाय।।

19. चूना घी और शहद को, ले सम भाग मिलाय।
बिच्छू को विष दूर हो, इसको यदि लगाय।।


20. गरम नीर को कीजिये, उसमें शहद मिलाय।
तीन बार दिन लीजिये, तो जुकाम मिट जाय।।

21. अदरक रस मधु(शहद) भाग सम, करें अगर उपयोग।
दूर आपसे होयगा, कफ औ खाँसी रोग।।

22. ताजे तुलसी-पत्र का, पीजे रस दस ग्राम।
पेट दर्द से पायँगे, कुछ पल का आराम।।

23.बहुत सहज उपचार है, यदि आग जल जाय।
मींगी पीस कपास की, फौरन जले लगाय।।

24.रुई जलाकर भस्म कर, वहाँ करें भुरकाव।
जल्दी ही आराम हो, होय जहाँ पर घाव।।


25.नीम-पत्र के चूर्ण मैं, अजवायन इक ग्राम।
गुण संग पीजै पेट के, कीड़ों से आराम।।

26.दो-दो चम्मच शहद औ, रस ले नीम का पात।
रोग पीलिया दूर हो, उठे पिये जो प्रात।।

27.मिश्री के संग पीजिये, रस ये पत्ते नीम।
पेंचिश के ये रोग में, काम न कोई हकीम।।

(आयुर्वेदिक पुस्तकों के आधार पर)
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Sep 13, 2011
ratings: 11

tags: Arun
language: hi

Marne ke baad, Hum sitare ban jaayenge,
Jiteji na sahi, Marne ke baad kaam aayenge,
Kabhi uper dekhna, Aapko hum nazar aayenge,
Mang lena jo jee chahe, Hum aapke liye toot jaayenge...
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

by: hu cho
average: 10.0

on: Jul 12, 2009
ratings: 11

language: hi

aaja main hawaon pe bithake le chaloon
(Come I will carry you on the gusts of the winds)
tu hi to
(you are the one)
tu hi to meri dost hain
(You are my [the]friend)
aaja main khalon mein uthake le chalu
(Come I carry you in my thoughts)
tu hi to meri dost hain
(You are my only friend)

awaaz ka dariya hoon, behta hoon main nili raaton mein
(I am the river of sounds, I flow away thorugh the dark nights)
main jaagta rehta hoon, nind bhari jheel se aankhon mein
(I remain awake, even though the deep eyes are full of sleep)
awaaz hoon main
(I am the voice/sound)

aaja main hawaon pe bithake le chalu tu hi to
tu hi to meri dost hain
aaja main khalon mein uthake le chalu
tu hi to meri dost hain

aaja main khalon mein uthake le chalu
tu hi to meri dost hain

raat mein chandani kabhi aisi gungunati hain
(At night sometimes the moonlight hums as such)
sun jara lagata hain tumase awaaz milaati hain
(Listen, it seems it is trying to say something with you)
main khayalo ki mehak hu, gungunaate saaj par
(I am the fragrance of thoughts, on the humming music)
ho sake to milale, awaaj ko mere saaj par
(If possible then sing to my music)

aaja main hawaon pe bithake le chalu tu hi to
tu hi to meri dost hain
aaja main khalon mein uthake le chalu
tu hi to meri dost hain
awaaz ka dariya hoon, behata hoon main nili raato mein
main jaagta rehta hoon, nind bhari jheel se aankhon mein
awaaz hoon main

o kabhi dekha hain saahil, jahan sham utarati hain
(Have you seen the color of the sunset)
kehate hain samunder se, ek pari guzarati hain
(They say a fairy passes through the sea/ocean)
woh raat ki rani hain, sargam par chalati hain
se ra se ra se ra, sa re sa sa re sa

aaja main hawaon pe bithake le chalu tu hi to
tu hi to mera dost hain
aaja main khalon mein uthake le chalu
tu hi to mera dost hain

awaaz ka dariya hoon, behati hoon main nili raaton mein
main jaagti rehti hoon, nind bhari jheel si aankhon mein
awaaz hoon main
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Nov 12, 2012
ratings: 11

language: hi

हमारे समग्र प्रयासों से जब

लोगो की राहें होंगी रौशन

हर चेहरे ऐसे चमके व दमकेंगे

जैसे घर घर

टिम-टिमाते दीपक

फैल जायेगी चारों ओर

खुशियों की ऐसी चादर

लगे जैसे झिलमिलाते

बल्बों की झालर

देखना फिर हर पल

लगने लगेगा त्यौहार

नहीं रहेगा वर्ष के

उस दिन का इंतजार

हर पल हम कह सकेंगे

*****शुभ दीपावली*****

दीप मल्लिका आपके परिवारजनों, मित्रों, स्नेहीजनों व शुभ चिंतकों के लिये सुख, समृद्धि, शान्ती व धन-वैभव दायक हो॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰ इसी कामना के साथ॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰ दीपावली एवं नव वर्ष की हार्दिक बधाई एवं शूभकामनाऐं॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Nov 4, 2010
ratings: 11

language: hi

"You are the one who can handle your Heart better than anyone else.

So, don't give it to anyone else and complain that they are hurting it...."
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Dec 6, 2010
ratings: 11

language: hi

खाने में बैलेंस्ड डाइट की बात हमेशा कही जाती है, लेकिन इसके साथ ही खाने के सही कॉम्बिनेशंस की जानकारी भी जरूरी है, यानी किस चीज को एक साथ खाना चाहिए और किस-किस को नहीं। इस बारे में आयुर्वेद में काफी जानकारी दी गई है, जबकि मॉडर्न मेडिसिन फूड कॉम्बिनेशंस के बजाय बैलेंस्ड डाइट पर फोकस करती है। एक्सपर्ट्स से बात करके आपको पूरी जानकारी दी जा रही है !

खाने में कॉम्बिनेशन
हम खाने में एक साथ कई चीजें खाना पसंद करते हैं। लेकिन एक ही वक्त के खाने में कुछ चीजें एक साथ खाना कई बार फायदे की बजाय नुकसानदेह हो सकता है। ऐसे में जरूरी है, यह जानना कि अच्छा खाना (गुड कॉम्बिनेशन) क्या है और खराब खाना (बैड कॉम्बिनेशन) क्या? दरअसल, आयुर्वेद में अच्छा खाना उसे कहा जाता है, जो स्निग्ध (जिसमें घी हो) हो, लघु (हल्का और आसानी से पचनेवाला) और ऊष्ण (थोड़ा गर्म) हो। इस तरह का खाना पाचन बढ़ाता है, पेट साफ रखता है, शरीर का पोषण करता है और आसानी से पच जाता है। ऐसा खाना खाने में रुचि भी बढ़ाता है। दूसरी ओर, उलट मिजाज के खाने मसलन जिनका तापमान (बहुत ठंडा और गर्म), टेस्ट (मीठा और नमकीन), गुण (हल्का और भारी) और तासीर (दूध ठंडा होता है और मछली गर्म) अलग-अलग हो, एक साथ नहीं लेने चाहिए। ऐसी चीजों को आयुर्वेद में 'विरुद्ध आहार' की कैटिगरी में रखा जाता है। अगर गलत फूड कॉम्बिनेशन खाएंगे तो सबसे पहले पोषण पर असर पड़ेगा। मॉडर्न मेडिकल साइंस भी इन बातों से कुछ हद तक इत्तफाक रखती है, लेकिन कॉम्बिनेशंस की थ्योरी को बहुत सही नहीं मानता। उसके मुताबिक कुछ मामलों में ही यह सही है, बाकी बैलेंस्ड डाइट लेना ही अहम है क्योंकि हर खाना पेट में जाने के बाद कार्बोहाइड्रेट, फैट और शुगर में बदलता है। ऐसे में तासीर से कोई फर्क नहीं पड़ता। हां, बहुत ज्यादा ठंडा या गर्म खाना खाने से जरूर बचना चाहिए क्योंकि पेट में पाचन कमरे के तापमान पर होता है, इसलिए सामान्य गर्म खाना खाना ही बेहतर है।

आयुर्वेद के मुताबिक किस-किस चीज को साथ नहीं खाना चाहिए और क्यों, जानते हैं :
दूध के साथ दही लें या नहीं?
दूध और दही दोनों की तासीर अलग होती है। दही एक खमीर वाली चीज है। दोनों को मिक्स करने से बिना खमीर वाला खाना (दूध) खराब हो जाता है। साथ ही, एसिडिटी बढ़ती है और गैस, अपच व उलटी हो सकती है। इसी तरह दूध के साथ अगर संतरे का जूस लेंगे तो भी पेट में खमीर बनेगा। अगर दोनों को खाना ही है तो दोनों के बीच घंटे-डेढ़ घंटे का फर्क होना चाहिए क्योंकि खाना पचने में कम-से-कम इतनी देर तो लगती ही है।

दूध के साथ तला-भुना और नमकीन खाएं या नहीं?
दूध में मिनरल और विटामिंस के अलावा लैक्टोस शुगर और प्रोटीन होते हैं। दूध एक एनिमल प्रोटीन है और उसके साथ ज्यादा मिक्सिंग करेंगे तो रिएक्शन हो सकते हैं। फिर नमक मिलने से मिल्क प्रोटींस जम जाते हैं और पोषण कम हो जाता है। अगर लंबे समय तक ऐसा किया जाए तो स्किन की बीमारियां हो सकती हैं। आयुर्वेद के मुताबिक उलटे गुणों और मिजाज के खाने लंबे वक्त तक ज्यादा मात्रा में साथ खाए जाएं तो नुकसान पहुंचा सकते हैं। लेकिन मॉडर्न मेडिकल साइंस ऐसा नहीं मानती।

सोने से पहले दूध पीना चाहिए या नहीं?
आयुर्वेद के मुताबिक नींद शरीर के कफ दोष से प्रभावित होती है। दूध अपने भारीपन, मिठास और ठंडे मिजाज के कारण कफ प्रवृत्ति को बढ़ाकर नींद लाने में सहायक होता है। मॉडर्न साइंस में भी माना जाता है कि दूध नींद लाने में मददगार होता है। इससे सेरोटोनिन हॉर्मोन भी निकलता है, जो दिमाग को शांत करने में मदद करता है। वैसे, दूध अपने आप में पूरा आहार है, जिसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और कैल्शियम होते हैं। इसे अकेले पीना ही बेहतर है। साथ में बिस्किट, रस्क, बादाम या ब्रेड ले सकते हैं, लेकिन भारी खाना खाने से दूध के गुण शरीर में समा नहीं पाते।
दूध में पत्ती या अदरक आदि मिलाने से सिर्फ स्वाद बढ़ता है, उसका मिजाज नहीं बदलता। वैसे, टोंड दूध को उबालकर पीना, खीर बनाकर या दलिया में मिलाकर लेना और भी फायदेमंद है। बहुत ठंडे या गर्म दूध की बजाय गुनगुना या कमरे के तापमान के बराबर दूध पीना बेहतर है।
नोट : अक्सर लोग मानते हैं कि सर्जरी या टांके आदि के बाद दूध नहीं लेना चाहिए क्योंकि इससे पस पड़ सकती है, यह गलतफहमी है। दूध में मौजूद प्रोटीन शरीर की टूट-फूट को जल्दी भरने में मदद करते हैं। दूध दिन भर में कभी भी ले सकते हैं। सोने से कम-से-कम एक घंटे पहले लें। दूध और डिनर में भी एक घंटे का अंतर रखें।





(शेष अगले भाग - 2 में) प्रस्तुति: सीमा शर्मा
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: May 27, 2013
ratings: 11

language: hi

Jalate hain hum apne dil ko diye ki tarah,

Teri zindagi me khushiyon ki roshni lane ke liye.

Seh jate hain har chubhan ko apne pairon tale,

Teri rahoon me phool bhichhane ke liye..* *
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Jun 2, 2010
ratings: 11

language: hi






औलाद के सताये एक माता-पिता की दास्तान...



पांच साल पहले मैं सरकारी नौकरी से रिटायर हुआ। मेरे चार बच्चे (तीन बेटे व एक बेटी) हैं। चारों बच्चों की शादी-ब्याह करने के बाद मैं अपनी पत्नी के साथ अकेला रहता हूं।



नौकरी के दौरान मैंने बड़ी मुश्किल से एक मकान बनाया था जिसे मेरे दोनों बड़े बेटों ने धोखे से हड़प लिया। उन्होंने अपने छोटे भाई व उसकी पत्नी के साथ-साथ हमें (माता-पिता) भी घर से बाहर निकाल दिया।



तीसरे बेटे और बहू के बीच घरेलू खर्चों को लेकर आए दिन झगड़ा होता रहता है जिससे बेटा हमेशा टेंशन में रहता है। उसकी पत्नी उसे छोड़ कर मायके चली गई है। वह हमारे खिलाफ दहेज उत्पीड़न का झूठा मामला धारा 498-ए और 406 के तहत दर्ज कराने की धमकी देती है।



बुढ़ापे में अपनी फजीहत के डर से मैंने तीसरे बेटे और बहू को अलग कर दिया है। फिलहाल केवल बेटी से मुझे इमोशनल सपोर्ट मिल रही है। वह हमारे साथ जगह-जगह भागदौड़ करती है। लड़कों की ओर से मुझे किसी भी प्रकार (आर्थिक, नैतिक और भावनात्मक) की कोई मदद मिलना तो दूर, वे कभी हमारा हाल-चाल जानने भी नहीं आते हैं।



मेरी पत्नी को कैंसर है। पेंशन के रूप में जो रकम मुझे हर महीने मिलती है उसे मैं मकान के किराये और पत्नी के इलाज पर खर्च करता हूं। अपनी समस्या के निदान के लिए मैं जहांगीरपुरी स्थित नव ज्योति परामर्श केंद्र गया। मैंने काउंलर से अनुरोध किया कि वह किसी तरह मुझे मेरे घर में रहने की व्यवस्था करा दे। कौंसलर ने मुझे मेरे घर, किसी रिश्तेदार के यहां या नव ज्योति परामर्श केंद्र में बच्चों के साथ बैठक करने की सलाह दी, लेकिन मेरे बेटे इस विषय में कोई बात करने को तैयार नहीं हैं।



लड़कों का रवैया देख कर नव ज्योति के सलाहकार ने मुझे फ्री लीगल एड हासिल करने और मकान में अपने अधिकार के लिए लड़कों के खिलाफ मुकदमा चलाने की सलाह दी।



बढ़ती उम्र, बीमार पत्नी और अपनी आर्थिक बदहाली को देखते हुए मुझे अपने बच्चों के विरुद्ध अदालती कार्रवाई में उलझना उचित नहीं लग रहा है। अपनी दयनीय दशा के लिए काफी हद तक मैं खुद भी जिम्मेदार हूं। अगर समय रहते सचेत हो जाता तो आज मुझे अपने हाल पर आंसू बहाना नहीं पड़ता। बुढ़ापा मेरे लिए अभिशाप बन गया है।

 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Sep 9, 2009
ratings: 11

tags: akshi
language: hi

Tujhe bhulkar bhi na bhool payenge hum
Bas yehi ek wada nibhaenge hum
Mitta denge khud ko jahan se lekin
Naam tera dil se na mita payenge hum
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Jan 25, 2014
ratings: 11

tags: friends
language: hi

kabhi thak ke so gaye hum, Kabhi raat bhar na soye,
Kabhi hans ke Gum chupaya, Kabhi muh chupa ke roye,
.
Meri Dastan-e-Hasrat wo suna-suna ke roye,
Mere Azmane wale mujhe azma ke roye,
.
Shab-e-Gum ki aap beeti jo sunayi Anjuman me,
Kayi sun ke Muskraye, Kayi Muskura ke roye,
.
Main hu Be-Watan Musafir, Mera naam Be-Kasi hai,
Mera koi bhi nahi hai jo Gale laga ke roye,
.
Mere paas se Guzar kar mera Haal tak na pucha,
Main ye kese maan jau ki wo door ja ke roye...
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Jul 1, 2010
ratings: 11

tags: dosti ka sila
language: hi

meri dosti ka tune kaisa sila de diya
loot liya bhi to tune apne ko hi loot liya
Kya kami reh gayi apni dosti me
jo tune aisa sitam mujhko diya

Mana ki sabko aage badhna hota hai
par uske liya kya apno ko todna hota hai
agar kuch chahiye tha to maang lete humse
apno ke liye to hum jaan bhi de dete




 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Jul 15, 2011
ratings: 11

language: hi

soona soona lamha lamha
raahain meri tanha tanha
mur ke zara ab dekh lo
aisa milan phir ho na ho
sab kuch mera tum hi to ho
bepanah pyar hai aa ja
tera intezaar hai aa ja
bepanah pyar hai aa ja
tera intezaar hai aa ja
soona soona lamha lamha
meri raahain tanha tanha
bichray bhi ham jo kabhi
raston main to sang sang rahon gi sada
qadmon ki awaz sun ke chalon gi
tumhain dhoondh loon gi sada
bholi mohabbat ki yeh khushbooin hain
hawaon main phaili hooi
choo kar mujhay aaj mehsoos kar lo
woh yaadain meri un chooi
aisa milan phir ho na ho
sab kuch mera tum hi to ho
bepanah pyar hai aa ja
tera intezaar hai aa ja
bepanah pyar hai aa ja
tera intezaar hai aa ja
soona soona lamha lamha
meri raahain tanha tanha
yadon ke dhagon main ham tum bandhay hain
zara dor tum thaam lo
banhon main phir say pighal janay do mujhay
phir say mera naam lo
main woh shama hoon jo roshan tumhain kar ke
khud to pighal jaaon gi
subha ka sooraj tumharay liye hain main hoon raat
dhal jaaon gi
aisa milan phir ho na
sab kuch mera tum hi to ho
bepanah pyar hai aa ja
tera intezaar hai aa ja
bepanah pyar hai aa ja
tera intezaar hai aa ja
soona soona lamha lamha
meri raahain tanha tanha
mur ke zara ab dekh lo
aisa milan phir ho na ho
asb kuch mera tum hi to ho
bepanah pyar hai aa ja
tera intezaar hai aa ja
bepanah pyar hai aa ja
tera intezaar hai aa ja
soona soona lamha lamha lamha
meri raahain tanha tanha
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Oct 28, 2011
ratings: 11

language: hi

Teri berukhi se hume dar lagta hai,
maut ki panah bhi milti nahi,
bagair tere is jindagi se dar lagta hai,
aadat nahi hume rooth jaane ki magar,
teri khamoshi se mujhe dar lagta hai,
... ... kyo leta hai har pal mere itne imtihaan,
ab to hume muskurane se dar lagta hai,
jise chahte hai itni siddat se,
jo mera nahi hai use khone se dar lagta hai
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: May 19, 2010
ratings: 11

language: hi


तुम सपना देखा तुमने मुझे मेरी नींद दे
तीव्र और भावुक मैं तुम्हारे साथ हूँ
तुम और मैं तुम पुचकारना सपना देखा
और नम्रता से अपने चेहरे को लाड़

आप सपने के रूप में मैं तुम्हें आकर्षित
आप हर जगह स्पर्श वासना में
आप सपने के रूप में मैं तुम्हें सब कुछ दे
तुम्हारे साथ अपनी वासना से बाहर रहते हैं

तुम मेरे सीने पर अपना मुँह सपना देखा
तुम मेरी तीव्र वासना लगा
सपना तुम मुझे बना दिया है में बहुत
मुझे पीछे से सभी को प्यार

तुम मेरे लिए बहुत मुश्किल सपना
तुम मेरी जीभ पर गौर किया है
आप सपने आप मुझ में गहरी हो
सब दे दिया है कि आप केवल मुझे

आप यह सपना देखा था शुद्ध वासना
आप इसे मेरे आवेशपूर्ण चुंबन महसूस किया है
शुद्ध प्यार तुम मेरे साथ सपना
इस सपने में मैं तुम्हें सब कुछ दिया

आप हमारी पहली रात का सपना देख रहे है
हम खुशी और एक जुनून में दोनों थे
तुम तुम मुझे का सपना देखा और
मैं तुम्हें मुझ से यह सपना अब शेयर

तुमने सपना क्योंकि तुम मुझे प्यार
क्योंकि तुम मुझे दे कि सब खुश
आप हमारे सपनों में वासना जलाया
हम सभी को बनाता है के साथ महसूस

तुम अकेले मेरे प्रिय सपना नहीं था
मैं तुम्हारे साथ था ने कहा कि इस वाक्य:
मैं आपसे प्यार करती हूँ तुम मेरी जिंदगी हो
मैं किसी और मेरी कल्पना कभी नहीं देगा!

शायद सही ढंग से अनुवादित नहीं? - समझने के लिए है, लेकिन?


 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Jan 7, 2013
ratings: 11

tags: Kismat
language: hi

Hamari Kismat To Aasman Per Chamktey Huwe Sitaron Ki Tarah Hai..!

Log Apni Tamana K Liye Humare Tootne Ka Intezar Karte Hain..!
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Nov 7, 2011
ratings: 11

tags: Yad
language: hi

Zuban se keh nahi sakte khuda se fariyad karte hain,..jab tumhara dil zor se dhadke,to samajhlena hum tumhe yaad karte hain
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Jan 18, 2010
ratings: 11

tags: Dosti
language: hi

गमों को बेचकर खुशी खरीद लेंगे
ख्वाबों को बेचकर जिंदगी खदीद लेंगे
होगा इम्तिहान तो दुनिया देखेगी
हम अपनी बोली लगाकर आपकी दोस्ती ले लेंगे।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: May 1, 2017
ratings: 11

tags: friends
language: hi

पकड़ कर हाथ छोड़ा है किसी ने,
मुश्किलो में मुंह मोड़ा है किसी ने,
.
कई वादे मोहब्बत में हुए थे,
हर वादा तोड़ा है किसी ने,
.
वो मेरे साथ भी है, दूर भी है,
अजब ये रिश्ता जोड़ा है किसी ने,
.
बनाया दो दिलो ने प्रेम मंदिर,
वो मंदिर आज तोडा है किसी ने,
.
दिल में डर लिए कब तक जिएंगे,
भरी महफ़िल को छोड़ा है किसी ने...
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.66804

average: 10.0

on: Nov 2, 2017
ratings: 11

tags: frisnds
language: hi

खूबियाँ इतनी तो नही हम मे,
की किसी के दिल मे हम घर बना पाएंगे,*
पर भुलाना भी आसान ना होगा हमे,
कुछ ऎसा निभा जाएंगे…
तुम जिस से मर्ज़ी बातें करो,
क्या फ़र्क़ पड़ता है ..
अपनी धड़कनों से हमारे इश्क़ का
ज़ायक़ा मिटा सको तो कहना
खुश नही हू लेकिन खुश हू
का दिखावा करता हू
और सबको खुश रखता हूँ;
लापरवाह हूँ फिर भी
सबकी परवाह करता हूँ;
मालूम है कोई मोल नहीं मेरा;
फिर भी अनमोल लोगों से
रिश्ता रखता हूँ……..।
 
Rate & comment on this.
 
 
<<1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18  [19]  20  >>