Writings

Most Recent : Recipe
Submit your own.  My Writings
Browse
Most Viewed
Top Rated
Most Recent

Category
All
Joke
Poem
Recipe
Other

Write your own
score: 9.30162

by: Sujal
average: 10.0

on: Apr 17, 2020
ratings: 2

language: hi


फोन किया माँ ने बेटे को........तूने नाक कटाई है,
तेरी बहना से सब कहते .........बुजदिल तेरा भाई है!
ऐसी भी क्या मजबुरी थी........ऐसी क्या लाचारी थी,
कुछ कुत्तो की टोली कैसे........तुम शेरो पर भारी थी!
वीर शिवा के वंशज थे तुम......चाट क्यु ऐसे धुल गए,
हाथो मे हथियार तो थे.......क्यु उन्हें चलाना भूल गये!
गीदड़ बेटा पैदा कर के............मैने कोख लजाई है,
तेरी बहना से सब कहते .........बुजदिल तेरा भाई है!!
(लाचार फौजी अपनी माँ से)
इतना भी कमजोर नही था.......माँ मेरी मजबुरी थी,
उपर से फरमान यही था.......चुप्पी बहुत जरूरी थी!
सरकारे ही पिटवाती है..........हमको इन गद्दारो से,
गोली का आदेश नही है.......दिल्ली के दरबारो से!
गिन-गिनकर मैं बदले लूँगा.....कसम ये मैंने खाई है,
तू गुड़िया से कह देना .... ना बुजदिल तेरा भाई है!!
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

by: J D
average: 10.0

on: May 12, 2015
ratings: 1

language: hi

ऐ "सुख" तू कहाँ मिलता है
क्या. तेरा कोई. स्थायी. पता. है

क्यों बन बैठा है. अन्जाना
आखिर. क्या है तेरा ठिकाना।

कहाँ कहाँ. ढूंढा. तुझको
पर. तू न. कहीं मिला मुझको

ढूंढा. ऊँचे मकानों. में
बड़ी बड़ी दुकानों. में

स्वादिस्ट पकवानों. में
चोटी. के. धनवानों. में

वो भी तुझको. ढूंढ. रहे थे
बल्कि मुझको. ही पूछ. रहे. थे

क्या आपको कुछ पता है
ये सुख आखिर कहाँ रहता है?

मेरे. पास. तो. "दुःख" का पता था
जो सुबह शाम. अक्सर. मिलता था

परेशान होके रपट लिखवाई
पर ये कोशिश भी काम न आई

उम्र अब ढलान. पे. है
हौसले थकान. पे. है

हाँ उसकी. तस्वीर है मेरे. पास
अब. भी. बची हुई. है आस

मैं. भी. हार नही मानूंगा
सुख. के. रहस्य को. जानूंगा

बचपन. में मिला करता था
मेरे साथ रहा करता. था

पर. जबसे. मैं बड़ा हो. गया
मेरा. सुख मुझसे जुदा. हो गया।

मैं फिर भी. नही हुआ हताश
जारी रखी उसकी तलाश

एक. दिन. जब आवाज. ये आई
क्या. मुझको. ढूंढ. रहा है भाई

मैं. तेरे. अन्दर छुपा. हुआ. हूँ
तेरे. ही. घर. में. बसा. हुआ. हूँ

मेरा. नही. है कुछ. भी "मोल"
सिक्कों. में. मुझको. न. तोल

मैं. बच्चों. की. मुस्कानों. में हूँ
हारमोनियम की. तानों में. हूँ

पत्नी. के. साथ चाय. पीने. में
"परिवार" के. संग. जीने. में

माँ. बाप के. आशीर्वाद में
रसोई घर के पफवानो। में

बच्चों। की सफलता। में। हूँ
माँ। की। निश्छल। ममता में हूँ

हर। पल। तेरे। संग रहता। हूँ
और अक्सर। तुझसे कहता। हूँ

मैं तो हूँ बस। एक "अहसास"
बंद। कर दे तु। मेरी तलाश

जो मिला उसी। में। कर "संतोष"
आज को। जी। ले। कल की न सोच

कल के लिए। आज। को न खोना

मेरे लिए कभी दुखी। न। होना
मेरे। लिए कभी। दुखी न होना
🚩ॐ.🚩
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.56709

average: 10.0

on: Feb 3, 2015
ratings: 7

tags: pearl
language: hi

होश आत्मा का दीया है।
वही ध्यान है,
उसी को मैं मेडिटेशन कहता हूं।
होश ध्यान है।
निरंतर अपने जीवन के प्रति,
सारे तथ्यों के प्रति जागे हुए होना ध्यान है।
वही दीया है, वही ज्योति है।
उसको जगा लें और फिर देखें, पाएंगे, अंधेरा क्रमशः विलीन होता चला जा रहा है।
एक दिन आप पाएंगे, अंधेरा है ही नहीं।
एक दिन आप पाएंगे, आपके सारे प्राण प्रकाश से भर गए।
और एक ऐसे प्रकाश से, जो अलौकिक है।
एक ऐसे प्रकाश से, जो परमात्मा का है।
एक ऐसे प्रकाश से, जो इस लोक का नहीं, इस समय का नहीं, इस काल का नहीं, जो कहीं दूरगामी, किसी बहुत केंद्रीय तत्व से आता है।
और....
उसके ही आलोक में जीवन नृत्य से भर जाता है,
संगीत से भर जाता है।
तभी शांति है,
तभी सत्य है।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.68632

average: 10.0

on: Aug 28, 2014
ratings: 12

language: hi


जय गणेश नमः

जो करते है मगल और जो हारते है विघन सारे..
जो देते है सुख सम्रधि और हारते है दुख सारे
जिनके नाम से ही शुरू होते पूजा पाठ सारे..
जिनकी कृपा से पूरे होते काज सबके
वो ही तो है पार्वती पुत्र गणेश हमारे

जनम भी लिया गणेश ने एक अजब कथा जुड़ी है इससे
जब माँ पार्वती थी अकेली, शिव जी से थी दूरी..
बनाई मूरत माटी की , और डाल दी जान..
अब वो बालक ही करता था माँ की सेवा और पूरी हर आज्ञा
शिव जी इस सब ना था कोई ज्ञान
एक बार गयी थी माँ स्नान को, कह गयी बालक से ना आने देना

किसी को भी चाहे कोई भी क्यू ना हो...
बालक भी मुस्काया और प्रण लिया ना आने देगा किसी को
शिव जी आए तो बालक ने रूका और बोला माता का आदेश
निभा रहा हू, बाद में आए अभी गयी माता स्नान को
क्रोधित हुए शिव जी,धड़ को किया मस्तक से अलग एक पल में
चीख सुन माँ जब आई बाहर और गिर पड़ी धरती पर..

थे आँखो में आँसू और मन में सवाल
क्यू किया शिव आपने ये अत्याचार. बोली लेके आओ मेरे
पुत्र को, करो इससे जीवित इसी शरण में..
तभी शिव जी ले आए धड़ हाथी के बच्चे का
जय श्री गणेश जी....
बोलो गणेश जी की जय...


 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: May 22, 2014
ratings: 2

tags: 1
language: hi

तुमने लफ़्ज़ों से बेवफाई की है... अब तरसते रहोगे ग़ज़ल के लिए '
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: May 7, 2014
ratings: 3

tags: 1
language: hi

Kaash Dilo K Bhi Election Hote....
Main Tumhe Jeet Hi Leta Cheating kr K....
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

by: J D
average: 10.0

on: Jan 30, 2014
ratings: 3

tags: jitu
language: hi

ज़िक्र भी करदूं ‘मोदी’ का तो खाता हूँ
गालियां
अब आप ही बता दो मैं
इस जलती कलम से क्या लिखूं ??
कोयले की खान लिखूं
या मनमोहन बेईमान लिखूं ? पप्पू पर जोक लिखूं
या मुल्ला मुलायम लिखूं ?
सी.बी.आई. बदनाम लिखूं
या जस्टिस गांगुली महान लिखूं ?
शीला की विदाई लिखूं
या लालू की रिहाई लिखूं ‘आप’ की रामलीला लिखूं
या कांग्रेस का प्यार लिखूं
भ्रष्टतम् सरकार लिखूँ
या प्रशासन बेकार लिखू ?
महँगाई की मार लिखूं
या गरीबो का बुरा हाल लिखू ? भूखा इन्सान लिखूं
या बिकता ईमान लिखूं ?
आत्महत्या करता किसान लिखूँ
या शीश कटे जवान लिखूं ?
विधवा का विलाप लिखूँ ,
या अबला का चीत्कार लिखू ? दिग्गी का 'टंच माल' लिखूं
या करप्शन विकराल लिखूँ ?
अजन्मी बिटिया मारी जाती लिखू,
या सयानी बिटिया ताड़ी जाती लि
दहेज हत्या, शोषण, बलात्कार लिखू
या टूटे हुए मंदिरों का हाल लिखूँ ? गद्दारों के हाथों में तलवार लिखूं
या हो रहा भारत निर्माण लिखूँ ?
जाति और सूबों में बंटा देश लिखूं
या बीस दलो की लंगड़ी सरकार लिखूँ ?
नेताओं का महंगा आहार लिखूं
या 5 रुपये का थाल लिखूं ? लोकतंत्र का बंटाधार लिखूं
या पी.एम्. की कुर्सी पे मोदी का नाम
लिखूं ?
अब आप ही बता दो मैं
इस जलती कलम से क्या लिख
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.75268

average: 9.89286

on: Jan 15, 2014
ratings: 31

language: hi

Maine Kaha Wo Ajnabi Hai
Dil Ne Kaha Ye Dil Ki Lagi Hai

Main Ne Kaha Wo Sapna Hai
Dil Ne Kaha Phir Bhi Apna Hai

Mene Kaha Wo Do Pal Ki Mulaqat Hai
Dil Ne Kaha Ye Sadyun Ka Sath Hai

Mene Kaha Wo Meri Haar Hai
Dil Ne Kaha Yahi To Pyar Hai!!…
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.05634

by: J D
average: 8.0

on: Jan 9, 2014
ratings: 1

language: hi

अन्न जहां का खाया,वस्त्र जहां से पाया,जल
जहां का पीया,जिसकी हवा नें जीवन दीया उसी भारत माता के रक्षक
अमर बलिदानी हेमराज की गर्दन काटकर बीस करोड़
पाकिस्तानी मुसलमान ले जाते हैं और बीस करोड़
हिंदुस्थानी मुसलमानों में से एक भी नहीं कहता - पाकिस्तान मुर्दाबाद
और तब किसी को कहना पड़ता है - इस्लाम मुर्दाबाद,जय
सनातन,जय भारत,
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

by: J D
average: 10.0

on: Jan 1, 2014
ratings: 1

tags: jitu moyfi
language: hi

जर्जर ईटोँ से तुम कब तक, भला रोक सकोगे आँधी को
सच बोलुँगा अब मैं यारो, बुरा लगे चाहे गाँधी को.

क्यूँ इतिहास छिपा रखा है, बोलो सन् सत्तावन का
गाँधी का फोटो छापा क्यूँ नोटो पर मरणासन्न का

रस्सी तुमने ढूँढ निकाली बकरी वाली गाँधी की
भगत की रस्सी कब ढूँढोगे, जिस पर उसको फाँसी दी

गाँधी-नेहरू के जन्म-मरण पर तुम छुट्टी दे देते हो
भगत-चन्द्र की बात करूँ तो क्यूँ चुप्पी ले लेते हो

अंधे सत्ता के रखवाले पीतल कर देंगे चाँदी को
सच बोलुँगा अब मैं यारो, बुरा लगे चाहे गाँधी को

जिसमें सुभाष लिखा महान, बोलो वो पन्ने कहाँ गये
जो पत्र लिखे थे "नाथू" ने,उनको बोलो क्यूँ दबा गये

क्यूँ इतिहास पढ़ाया हमको, कायर, मुगल , लुटेरोँ का
और अब तुम ही मिटा रहे हो, सच भारत के वीरोँ का

वीर शिवाजी की गाथाएँ, रखती याद जवानी थी
अब किसको है याद कहो पन्ना की, झाँसी रानी की

अंग्रेजोँ के तलवे चाटे, आज वो सोना लूट रहे
सच्ची बातोँ पर तुम बोलो, क्यूँ अपनी छाती कूट रहे

तुम सब दोनों गालोँ पर ही थप्पड़ खाने के आदी हो
सच बोलुँगा अब मैं यारो, बुरा लगे चाहे गाँधी को
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.43918

average: 10.0

on: Dec 30, 2013
ratings: 4

language: hi



फुर्सत की जमीन पर कुछ लम्हे उग आते हैं,
यादों के चेहरे खिल जाते हैं,
बड़ा अच्छा लगता है जब कुछ दोस्त मिल जाते हैं!

मौका मिलते ही टांग खिंच लेते हैं,
और लडखडाओ तो गले लगाते हैं,
बड़ा अच्छा लगता है जब कुछ दोस्त मिल जाते हैं!

किसी से कहना मत, और बात शुरू होती है,
मजे ले-लेके यारों के किस्से सुनाते हैं,
बड़ा अच्छा लगता है जब कुछ दोस्त मिल जाते हैं!

मिलते रहना मेरे दोस्त कि कुछ लम्हे और चुराने हैं जिन्दगी से हमें!
मिलते रहना मेरे दोस्त कि ढेरों किस्से बाकी हैं सुनाने को अभी!!


 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: Dec 25, 2013
ratings: 3

language: hi

हिन्दू विरोधी "communal violence bill" संसद में पास
होने वाला है
बहुत से लोगो को ये भी पता नहीं की आखिर इस bill में
ऐसा क्या है जो हिन्दू समाज केलिए खतरा बना हुआ है
कल मैंने वादा किया था की आज इस bill को सरल
भाषा में पोस्ट करूँगा एवं अहम् मित्रो को टैग
करूँगा,पूरा दिन इन्टरनेट पर सर्च करके अनेको तथ्य
जमा किये है मैंने
इसे पढो और कम से कम शेयर ही कर लो
इतना भी नहीं कर सकते तो जाकर हिजड़ो की फ़ौज में
सामिल हो जाओ
मैं अपना कर्त्तव्य पूरा कर रहा हूँ
अब आपका काम है इस पोस्ट को आग की तरह फैला देना
इतना शेयर करो की हरेक हिन्दू को पता चले
की उनकी बर्बादी का ये bill कितने गर्व से
लाया जा रहा है
हिन्दू विरोधी "communal violence bill" अगर पास
हो गया तो सारे हिन्दू बिना पानी के ही डूब
मरना वरना अपने माँ बहन की लूटती हुई इज्ज़त देखने
को तैयार रहना
दंगा विरोधी bill के प्रमुख तथ्य है-:
1) यदि कही पर कोई दंगा होता है तो उसमे
किसी भी मुसलमान की गिरफ्तारी नहीं होगी चाहे
उसके खिलाफ कितने भी सबुत हो
2) किसी भी दंगे का जिम्मेदार सिर्फ वहा के हिन्दुओ
को बनाया जाएगा और इसके लिए केवल 2-3
लोगो की गवाही चाहिए होगी
3) यदि कही पर दंगा होता है तो दंगे के बाद उस इलाके
से हिन्दुओ को हटा दिया जाएगा और
वो इलाका मुसलमानों को मुवावजे के तौर पर दे
दिया जाएगा
4) यदि कोई मुस्लिम औरत किसी हिन्दू पुरुष पर
छेरखानी या कोई भी आरोप लगाएगी तो उस पुरुष
को बिना साबुत गिरफ्तार किया जाएगा और यह गैर
जमानती होगा
5) यदि कोई हिन्दू औरत किसी मुसलमान पर बलात्कार
का आरोप लगाती है तो उसे कम से कम 10 गवाह और
मेडिकल टेस्ट एवं पक्के सबुत देने होंगे
6) किसी दंगे में यदि हिन्दू औरतो के साथ बलात्कार
होता है तो उसे अपराध नहीं माना जाएगा
7) दंगे में यदि मुसलमान औरत के साथ बलात्कार
होता है तो उसमे बिना सबुत उम्र कैद होगी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.56709

average: 10.0

on: Aug 13, 2013
ratings: 7

tags: KAS
language: hi


Main pyaasa khada tha registhaan main
Liye aas ek bund paani ki
Yunhi karta raha intezaar uska barson
Phir bhi na lutaaya usne
Pyaar ki bund ka ek katra mujh pe
Jab khuda ko maine sunaya kissa mera
Wo patthar nahi hai mujhe pata tha
Sunake meri kahani giraaya usne jo aansoo
Wo uska aansoo na tha rahem tha mujhape
Ek zakhmi parinde ke liye marham tha
Main bhi uske pyaar me itana pagal
Fark na kar saka aansoo aur paani me
Lekin pikar us katare ko aaj main khush hu
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.68632

average: 10.0

on: May 3, 2013
ratings: 12

language: hi

Uske bin chup chup rehna achha lagta hai,

Khamoshi se ek dard ko sehna achha lagta hai.

Jis hasti ki yaad mein aansu baraste hai,

Samne uske kuch na kehna achha lagta hai.

Milkar usse bichad na jaye darte rehte hai,

isliye bas dur hi rehna achha lagta hai.
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

average: 0

on: Feb 1, 2013
ratings: 0

language: hi

Aandhiya Gam Ki Chali To Sawar Jaunga,

Main Tera Julf Nahi Jo Bikhar Jaunga,

Yaha Se Udunga To Ye Mat Puchho Kaha Jaunga,

Main To Driya Hoon Yaaron Samandar Mein Sama Jaunga.
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: Dec 20, 2012
ratings: 3

tags: Lalit
language: hi


1 ladka 1 ladki ko bahut pyar karta tha,
lekin dar ki vajah se kuch keh nai paya..
1 din usne decide kiya ki wo us ladki ko msg
karke I luv u bolega,
Usne raat me apne 'I LUV U' typekar k ladki k
no par send kiya aur so gya.
Kuch der baad uske mob Par msg ring tone
baji par usne decide kiya ki wo msg agli
subah naha kar mandir jane k baad padhe
ga aur phir se so gya.
Raat bhar wo us ladki ka sapna dekhta rha..
Jab subah mandir se lauta aur wo msg
padha to usme likha tha
.
.
.
A/C balance is insufficient.
Main bal is Rs. 0.08.
Msg can not be delievered...:O :D
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.43918

average: 10.0

on: Sep 9, 2012
ratings: 4

tags: FB Shared
language: hi

तो देश आगे कैसे बढे
.
.
जब विदेशी status symbol हो और
स्वदेशी cheap लगे
तो देश आगे कैसे बढे
.
.
जब नहाने के बाद deo लगाना जरुरी और
भगवान के सामने सर झुकना boringलगे
तो देश आगे कैसे बढे
.
.
जब dirty picture को नैशनल अवार्ड मिले और
पान सिंह तोमर फ्लॉप रहे
तो देश आगे कैसे बढे
.
.
जब राजेश खन्ना के मृत्यु पर मीडिया विधवा अलाप करे और
क्रांतिकारियों के शहादत दिवस परएक दीपक भी न जले
तो देश आगे कैसे बढे
.
.
जब देश का युवा malls में जेबकटवाए और
बाहर ठेले पे मोलभाव करे
तो देश आगे कैसे बढे
.
.
जब युवाओं को हिंदी बोलने में घीनऔर
देश का प्रधानमन्त्री अंग्रेजी को सर्वश्रेष्ठ भाषा कहे
तो देश आगे कैसे बढे
.
.
गर्लफ्रेंड के लिए कविताएं लिखनेवाला युवा
अगर देश की स्थिति पे मौन रहे
तो देश आगे कैसे बढे
.
.
अनगिनत ग्रंथो के बाद भी अगर
हिंदू चरित्र पतन करे
तो देश आगे कैसे बढे
.
.
धर्म निरपेक्षता के नाम पर किसी को ठगा जाए और
हम शांत रहे
तो देश आगे कैसे बढे
.
.
इन लाइनों को पढकर कुछ एहसास हो और
फिर भी युवा कुछ न करे
तो देश आगे कैसे बढे,,,,,,,
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.62422

average: 10.0

on: Aug 21, 2012
ratings: 9

language: hi

uSay Main DiL Mein Rakh Leta, AGar Hota Yeh Bus Mein Mere…!




*”faraz”*





uSay Sab Dekhtay Hain, MuJh Se Yeh Dekha Nahi Jaata .. ,, ,,, ,,ً
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.77362

average: 10.0

on: Aug 13, 2012
ratings: 19

language: hi

jab tumse ittafaakan meri nazar mili thi
ab yaad aa raha hai shaayd wo Janvari thi
tum yun mili dobaaraa fir maah-e-Farvari me
jaise ke hamsafar ho tum raah-e-zindagi me
kitna haseen zamana aaya tha March lekar
raah-e-vafaa pe thi tum vaadon ki torch lekar
baandha jo ahd-e-ulfat Aprail chal raha tha
duniya badal rahi thi mausam badal raha tha
lekin Maii jab aayi jalne laga zamana
har shaks ki zubaan par tha bas yahi fasaana
dunya ke dar se tumne badli thi jab nigaahen
tha June ka maheena lab pe thi garm aahen
July me jo tumne ki baatcheet kuchh kam
ye aasmaan pe baadal aur meri aakhen pur nam
maah-e-Agast me jab barsaat ho rahi thi
bas aasuon ki baarish din raat ho rahi thi
kuchh yaad aa raha hai wo maah tha Sitambar
bheja tha tumne mujhko tark-e-wafa ka letter
tum gair ho rahi thi October aa gaya tha
duniya badal chuki thi mausam badal chuka tha
jab aa gaya November aisi bhi raat aayi
mujhse tumhe chhuDaane sajkar baraat aayi
bekaif tha December jasbaat mar chuke the
mausam tha sard usme armaan bikhar chuke the
lekin ye kya bataun ab haal dusra hai
wo saal dusra tha ye saal dusra hai
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.80468

average: 10.0

on: Jul 20, 2012
ratings: 24

language: hi

एक व्यक्ति को मुंबई से पुणे जाना था परन्तु उसने नए बने एक्सप्रेस वे की जगह पुराने रास्ते से जाने का फैसला किया ताकि वो रास्ते में पड़ने वाले सुन्दर नज़ारों को देख सके। पर जब वो घाट के पास पहुँचा तो उसके साथ कुछ ऐसा हुआ जो नहीं होना चाहिए था। उसकी कार बीच रास्ते में ही ख़राब हो गई और आसपास मीलों दूर तक कोई आबादी नहीं थी।

कोई और रास्ता न होने की वजह से उसने फैसला किया कि वो पैदल ही जायेगा और इस उम्मीद में कि पास के शहर तक कोई लिफ्ट मिल जायेगी वो सड़ाक के किनारे-किनारे पैदल चलने लगा।

तब तक रात हो चुकी थी और बारिश भी होने लगी और वो जल्दी ही पूरी तरह से गीला हो गया और कांपने लगा।

पूरी रात ऐसे ही गुजर गई पर उस रास्ते से कोई गाड़ी नहीं गुजरी और बारिश इतनी तेज़ हो चुकी थी कि उसे अपने से महज कुछ फीट दूर तक ही दिख रहा था।

तभी उसे एक कार आती हुई दिखाई दी और वो उससे थोड़ी दूरी पर रुक गई और उसने बिना कुछ सोचे-समझे कार का दरवाजा खोला और जाकर उसमें बैठ गया।

वो पिछली सीट पर बैठा था और वो आगे आया उस इंसान को धन्यवाद देने के लिए जिसने उसे बचाया था, पर वो यह देख कर चौंक गया कि ड्राईवर की सीट पर कोई भी नहीं था।

हालाँकि आगे वाली सीट पर कोई नहीं था और न ही इंजन के चलने की कोई आवाज आ रही थी फिर भी कार धीरे धीरे चलनी शुरू हो जाती है। वह व्यक्ति फिर सड़क की तरफ देखता है कि उसे एक तेज़ मोड़ दिखाई देता है और नीचे एक गहरी खाई।

वो यह देख कर बहुत ही डर जाता है और भगवान से अपनी जिंदगी बचने के लिए प्रार्थना करने लगता है।

पर जैसे ही वो मोड़ पास आता है एक हाथ कहीं से स्टीयरिंग पर आता है और कार को मोड़ देता है और कार मोड़ से गुजर जाती है और फिर से वो हाथ गायब हो जाता है और कार फिर से बिना किसी ड्राईवर के चलने लगती है।

ऐसे ही बार बार जब भी वो किसी मोड़ के पास आते, एक हाथ आता और कार को घुमा देता और वो आराम से उस मोड़ से निकल जाते।

आखिरकार उस व्यक्ति को सामने की तरफ रोशनी दिखाई देती है और वो कार से उतर कर उस रोशनी की तरफ भागने लगता है और पहुँच कर देखता है कि वो एक गाँव है और वो एक ढाबे पर पहुँचता है।

वो वहाँ पर पानी मांगता है और आराम करने लगता है।

तब वो वहाँ मौजूद सभी लोगों को अपने उस डरावने अनुभव के बारे में सब बताता है।

ढाबे में एक सन्नाटा सा छा जाता है जैसे ही वो बोलना बंद करता है।

और तभी संता-बंता ढाबे में प्रवेश करते हैं।

संता उसी व्यक्ति की तरफ इशारा करता है और कहता है- देख बंता, यही वो इंसान है जो हमारी कार में बैठ गया था जब हम उसे धक्का लगा रहे थे।
 
Rate & comment on this.
 
 
 [1]  2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20  >>