Writings

Most Recent : All
Submit your own.  My Writings
Browse
Most Viewed
Top Rated
Most Recent

Category
All
Joke
Poem
Recipe
Other

Write your own
score: 9.30162

average: 10.0

on: Nov 17, 2019
ratings: 2

tags: My Diary
language: hi

मेरी नज़रों ने वायदा किया है मेरी रूह से
कि सनम तेरे सिवा कुछ ना देखेंगी
तू ये जानता है ना कि मेरी रूह तू है?

मैं शायद खुदा की बनायी पहली और अकेली औरत हूँ
जो अपने जिस्म के टुकड़े से ज्यादा प्यार अपने आदमी से करती है
क्योंकि जिस्म के सब टुकड़े भी तो तूने दिए हैं
क्योंकि मेरी जिन्दगी की ये पवित्र खुशी भी तो तूने दी है
क्योंकि इस मन को बेइंतहा सहारा भी तो तूने दिया है
क्योंकि मुझ नाचीज़ को आसमान पर उड़ना भी तो तूने सिखाया है.

तू इतना जान ले हमदम की तेरे बिना मैं कुछ भी नहीं
कि मेरी ख़ुशी मेरी जिन्दगी तू है
कि तेरे बिना जिन्दगी जिन्दगी ही नहीं
मेरी रूह ने वादा किया है मेरे खुदा से कि सनम
अगर तुझसे हुई जुदा तो तड़प के मर जायेगी
रूहों का सफ़र कभी फनां नहीं होता, पर
मेरी रूह तेरे बिना ना जी पायेगी...

बहुत डरती हूँ की कभी इस हालत पर ना पहुंचूँ कि
तुझसे चाहूँ तो बात ना कर सकूँ.
चाहूँ तो तुझे देख ना सकूँ.
तेरी पुरसुकूँन आवाज का मीठा अमृत अपने दिलो दिमाग में
ना महसूस कर सकूँ.
ऐसा तो हो नहीं सकता, सिवाय तब की जब
तू मुझसे जुदा हो गया हो और मौत के अंधेरों में खो गया हो
क्योंकि ये तो हो नहीं सकता कि जीते जी तू मुझसे रूठ गया हो.

मेरे होते तू मर नहीं सकता
क्योंकि मेरी जिन्दगी तू है, गर मै हूँ जिन्दा
तो फिर तू भी यहीं कहीं है.

मेरी हंसी खुशी सब तू ही है
मेरी जान...मै जीना चाहती हूँ, हँसना चाहती हूँ
क्या मेरी खातिर रहेगा तू हमेशाँ जिन्दा?
क्या मेरी खातिर रहेगा तू हमेशाँ मेरा दिलबर?
क्या मेरी खातिर रहेगा यही तेरे ख्यालों का असर?

दिल चाहता है कि खुदा से और तुझसे एक वादा ले लूं..
कि देखेंगी मेरी आँखें तुझे ही
जब तक मेरी आँखों में देखने की हिम्मत है
कि सुनूँगी तेरी आवाज़ जब तक जिंदा हूँ
कि तेरी गैर मौजूदगी का एहसास ना हो
कि कभी मजबूर ना होऊँ तेरी दूरी से
कि सोऊँ जब चिरनिद्रा में तो
रूह में, आँखों में समा कर तुझे...
कि जाऊं मैं तुझे छोड़ कर, ना कि तू मुझे.
तुझसे जुदा मैं कभी हो नहीं सकती, बस
मेरी मौत है तेरी दूरी मेरे लिये..

तू ना होगा तो किस को इस पागलपन से चाहूंगी?
तू ना होगा तो किस से इस पागलपन से लडूंगी?
तू ना होगा तो किस से इस पागलपन से प्यार कर सकूंगी?
तू ना होगा तो कौन दिखायेगा मुझे इस धरती पर स्वर्ग?
तू ना हो तो कौन मुझे पलकों पर बिठाएगा?
तू ना होगा तो कौन मुझे जिन्दा रखेगा?

तू रह जिन्दा सनम ताकि मैं जी सकूँ
तू रह शादाब ताकि मैं हंस सकूँ
तू रह ताकि मेरी आस पास तेरे वजूद की खुशबू रहे
तू रह इस दुनिया में ताकि ये दुनिया रहने के काबिल रहे
तू चल ताकि तेरे साए की छावं में, मैं शांती से सफ़र कर सकूँ
तू रह आबाद ताकि मैं बस सकूँ
बस तू ही तू है, इस जिन्दगी में, रूह में, सफ़र में,
तू रह मेरी आस पास ताकि मैं हँसते हँसते मर सकूँ.

बहुत खुश हूँ मैं कि जिन्दगी ने मुझे अधूरा नहीं लौटाया
एहसान है तेरा की मुझे प्यार में जीना आया
कद्रदान हूँ तेरी कि अपनी कोख में तुझे समाया
शुक्रगुज़ार हूँ तेरी कि खुदा की जांनिब तुझे पाया
दौलतवार हूँ कि तेरी छाहँ का आशियाँ पाया.

मेरे प्यारे, परम पिता के बनाये आदमी, तू इतना प्यारा क्यों है?
तू इतना दिल को समझने वाला हमसाया क्यों है?
तेरे जनमदाता में जरूर कुछ होगा कि तू एक चीज़ है
कभी सोचती हूँ... उस वृक्ष को भी चाहती हूँ मैं जिसका तू बीज है.

 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Nov 17, 2019
ratings: 1

tags: My Diary
language: hi

प्यार किसी को करना लेकिन
कह कर उसे बताना क्या
अपने को अर्पण करना पर
और को अपनाना क्या

गुण का ग्राहक बनना लेकिन
गा कर उसे सुनाना क्या
मन के कल्पित भावों से
औरों को भ्रम में लाना क्या

ले लेना सुगंध सुमनों की
तोड उन्हे मुरझाना क्या
प्रेम हार पहनाना लेकिन
प्रेम पाश फैलाना क्या

त्याग अंक में पले प्रेम शिशु
उनमें स्वार्थ बताना क्या
दे कर हृदय हृदय पाने की
आशा व्यर्थ लगाना क्या
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Nov 14, 2019
ratings: 2

language: hi

Ek bachpan ka zamana tha,
jisme khushiyon ka kakhazana tha!!

Chahat chand ko paane ki thi,
par dil titli ka deewana tha!!

Khabar na thi kuch subah ki,
na shaam ka thikana tha!!

Thak haarke aana school se,
par khelne bhi jaana tha!!

Maa ki kahani thi, pariyon ka fasana tha;
barish mein kagaz ki naav thi!!

Har mausam suhana tha.
Har khel mein saathi the,
Har rishta nibhana tha!!

Gum ki zuban na hoti thi,
Na zakhmon ka paimana tha.

Rone ki wajah na thi,
Na hansne ka bahana tha;
kyon ho gaye hum itne bade,
isse achha to woh bachpan ka zamana tha !!!!
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: Nov 13, 2019
ratings: 3

tags: My Diary
language: hi


है एक दोस्त जो रखता है ख़बर मेरी…..

ख़ामोश पढ़ता है वो हाल मेरा

दबे पाँव आता है फिर लौट जाता है

न अश्क़ों को मेरे देता है अब वो काँधा

न लबों पे मेरी मुसकान बुलाता है

मेरे नाम को आवाज़ नहीं देता है वो

न अब मरहम मेरे ज़ख़्मों पे लगाता है

है शायद बहुत नाराज़ वो मुझसे

रूठ गयें हैं लफ़्ज़ भी जो मनाते उसे

खामोश लिखती हूँ मैं हाल अपना

है एक दोस्त जो रखता है अब भी ख़बर मेरी……..
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: Nov 12, 2019
ratings: 3

tags: My Diary
language: hi

कहां आंसुओं की ये सौग़ात होगी
नए लोग होंगे नई बात होगी

मैं हर हाल में मुस्कुराता रहूंगा
तुम्हारी मोहब्बत अगर साथ होगी

चराग़ों को आंखों में महफ़ूज़ रखना
बड़ी दूर तक रात ही रात होगी

परेशां हो तुम भी परेशां हूं मैं भी
चलो मय-कदे में वहीं बात होगी

चराग़ों की लौ से सितारों की ज़ौ तक
तुम्हें मैं मिलूंगा जहां रात होगी

जहां वादियों में नए फूल आए
हमारी तुम्हारी मुलाक़ात होगी

सदाओं को अल्फ़ाज़ मिलने न पाएं
न बादल घिरेंगे न बरसात होगी

मुसाफ़िर हैं हम भी मुसाफ़िर हो तुम भी
किसी मोड़ पर फिर मुलाक़ात होगी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

by: Saloni
average: 10.0

on: Nov 11, 2019
ratings: 1

language: hi

ज्ञान के सागर हो तुम
सब के पालन हार हो तुम
कुछ नहीं तुम्हारे बिना
लेते है तुम्हारा नाम प्रतिदिन
ज्ञान के आधार हो तुम
हो तुम मेरे कर्ताधार
कर देते हो सबका सुधार
हाथ जोड़े खड़े है तुम्हारे
सब कुछ हो तुम हमारे
सबको गुरुपर्व की हार्दिक शुभकामनाएं
सलोनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

by: Saloni
average: 10.0

on: Nov 11, 2019
ratings: 1

language: hi

हाँ एक पल आया ,
मायूसी सी भरी हुई थी मेरी ज़िन्दगी।

न जीने की इच्छा दिल में,
न कुछ करने की ख्वाइश ।

न अपनों का साथ ,
न कोई पहचान।

हाँ एक पल आया ,
आज ज़िन्दगी खूबसूरत लगने लगी,

दिल में तमन्ना जग गयी,

कुछ अछा करने की इच्छा जग गयी,

कुछ अच्छा लिखने की आग ,
दिल में जग गयी।

अब अपनों का साथ ,

और ,

मेरी पहचान।

सलोनी
🌼🌼🌼
🌸🌸🌸
🌷🌷🌷
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Nov 11, 2019
ratings: 2

language: hi

*हो सके तो मुस्कुराहट बांटिये*
*रिश्तों में कुछ सरसराहट बांटिये।*

*नीरस सी हो चली है ज़िन्दगी बहुत,*
*थोड़ी सी इसमें शरारत बांटिये।*

*सब यूँ ही भाग रहे हैं दौलत के पीछे,*
*अब सुकून की कोई इबादत बांटिये।*

*ज़िन्दगी यूँ ही न बीत जाये परेशानियों में,*
*गीले शिकवों को कुछ तो राहत बांटिये!*
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: Nov 7, 2019
ratings: 3

tags: My Diary
language: hi

कोई सब कहे, कोई चुप रहे,
तो कोई छाँव, कोई धूप सहे,
कोई रहे न रहे,
क्या फर्क पड़ता है?

कोई खुद रोए, फिर भी हँसाए,
कोई हँसते-हँसते रो जाए,
चाहे वो रहे या खो जाए,
क्या फर्क पड़ता है?

कोई ख्वाब दिखाए, कोई लोरी गाए,
तो कोई गहरी नींद से जगाए,
कोई पास बुलाए, दूर भगाए,
क्या फर्क पड़ता है?

कोई प्यारा अपना बन जाए,
तो कोई हकीकत बस सपना बन जाए,
कोई कितना भी अपनापन दिखाए,
क्या फर्क पड़ता है?

कोई चाहे कितना भी अलग हो,
कोई समझ ही न पाए,
अगर आंटे के साथ घुन भी पीस जाए,
क्या फर्क पड़ता है?

दिए बुझ रहे हों हर पल के साथ,
बीत रहा हो आज, और कोई जिए कल के साथ,
फिर वो कल बीता हुआ हो, या आने वाला,
क्या फर्क पड़ता है?

मैं खुद ही ये न समझूँ,
बस यूँ ही कहता रहूँ,
कि, “क्या फर्क पड़ता है,
तो क्या फर्क पड़ता है?-
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

by: Saloni
average: 0

on: Nov 6, 2019
ratings: 0

language: hi

वो प्यारी शाम
वो अाई नहीं है वैसी शाम
जो थी मां के नाम ।

खुशियों से भरी हुई थी वैसे शाम
मां के साथ
गमों में बदल गई अब वैसे शाम
दर्द में बदल गई वैसी शाम
आब नहीं आएगी वैसी शाम।
सलोनी



 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

by: Saloni
average: 0

on: Nov 6, 2019
ratings: 0

language: hi

दर्द का रिश्ता है पुराना हमारा तुम्हारा
क्यों दर्द सताता है
तुम्हारा दर्द है हमारा
काश दे सके तुम्हे सहरा
दर्द का रिश्ता है बड़ा गहरा
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.43918

average: 10.0

on: Nov 2, 2019
ratings: 4

tags: friends
language: hi

तुझे मोहब्बत करना नही आता,
मुझे मोहब्बत के सिवा कुछ नही आता,
ज़िन्दगी गुज़ारने के दो ही तरीके है,
एक तुझे नही आता एक मुझे नही आता।
तुम्हारी याद मे जीने की आरजू है अभी
कुछ अपना हाल सभालू अगर इजाजत हो
तुम्हारी बात लम्बी है दलीलें है बहाने हैं
हमारी बात इतनी है हमारी जिंदगी हो तुम
इश्क़ की दास्ताँ का एक ज़िंदा किरदार बन जाऊँ
ज़िक्र जब भी तुम्हारा हो ...बयाँ मै हो जाऊँ..
तेरे इश्क से ही मिली है मेरे वजूद को ये शोहरत
मेरा जिक्र ही कहाँ था…तेरी दास्ताँ से पहले…
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.56709

average: 10.0

on: Nov 2, 2019
ratings: 7

language: hi

प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
महोब्बत नूर है रूह का ये तू मानले
चल दिखा तेरी ताकत, ला आसमान जमीन पर
है जिगर में जज्बा, भेज कयामत को भी ऊपर
तो सारी कायनात है तेरी ये तू ठान ले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
चिर-कौओ को खिला दे ऐसी लाश नही है तू
जिंदा होकर मर जाए ये एहसास नही है तू
चल उठ खड़ा हो, अंत नहीं है तू
इश्क़ की दुनिया का कोई संत नहीं है तू
तुझे लड़ना ही होगा ये तू ठान ले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
कमजोर नहीं, बलवान है तू
चंद पलों का मेहमान है तू
खुद की जिंदगी का अरमान है तू
हर कयामत का सौदागर है तू
तू बस अपने आप को पहचनाले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: Nov 1, 2019
ratings: 3

language: hi

मेरे मुकामों की हसरत छोड़ मेरा सफ़र बहुत छोटा है,
तुझ से ही शुरू होता है तुझ पे ही ख़त्म होता है,
मेरे इश्क़ की इन्तेहाँ छोड़ मेरा सफ़र बहुत लम्बा है
तेरी खुशियों से शुरू होता है तेरी खुशियों पे ख़त्म होता है,
मेरे दिल में क्या छुपा है उसे छोड़ तेरी क्या रजा है
इश्क़ की सिर्फ उसे बोल मेरा ये खुशियों का जहान
तुझसे शुरू होता है तुझ पे ख़त्म होता है।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Oct 31, 2019
ratings: 2

language: hi

Yeh bhi ek dua hai khuda se !!

Kisika dil na dukhe hamari wajah se !!!!

Aye khuda kar de kuch aisi inayat hum pe, !!

Ki khushiyan hi milein sabko hamari wajah se !!!!
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: Oct 28, 2019
ratings: 3

tags: My Diary
language: hi

माना बरसो से तुम साथ हो मेरे
न मेरी राहों पे तुम्हारे क़दमों के निशाँ हैं
न मेरी मँजिलों का पता है तुम्हें
कैसे कह दूँ जान! मैं हमसफर तुम्हें
माना बरसों से रखते हो तुम ख़याल मेरा
न मेरे जज़्बातों की है ख़बर तुम्हें
न मेरे लफजों की है क़दर तुम्हें
कैसे कह दूँ जान !मैं हमनवां तुम्हें
माना बरसो से रिश्ता है तुम्हारा मेरा
न मेरी मुस्कराहट में खिलखिलाते हो
न मेरे अश्क़ अपने काँधे पे सजाते हो
कैसे कह दूँ जान! मैं हमनशीन तुम्हें
माना बरसों से मुझमें बसा घर है तुम्हारा
न मेरी दिवारों पे यादें सजाते हो
न मेरे आँगन में रजनीगंधा महकाते हो
कैसे कह दूँ जान! मैं हमनफस तुम्हें
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.64749

average: 10.0

on: Oct 28, 2019
ratings: 10

tags: My Diary
language: hi

हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हें नहीं तोड़ा करते

जिस की आवाज़ में सिलवट हो निगाहों में शिकन
ऐसी तस्वीर के टुकड़े नहीं जोड़ा करते

शहद जीने का मिला करता है थोड़ा थोड़ा
जाने वालों के लिये दिल नहीं थोड़ा करते

तूने आवाज़ नहीं दी कभी मुड़कर वरना
हम कई सदियाँ तुझे घूम के देखा करते

लग के साहिल से जो बहता है उसे बहने दो
ऐसी दरिया का कभी रुख़ नहीं मोड़ा करते
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

average: 0

on: Oct 26, 2019
ratings: 0

tags: sanaa
language: hi

.. .........समय की खेल ............

बादल बरसते नहीं अकेले के लिए
बिजनेवाला तुम अकेला नहीं यार
जाड ,पौधे, पत्थर ,कांटे ,नदी,नाले
बिज जाते हैं गधे , कुत्ते,सियार ............

आज जो अमृत लगता है तुझे
कल वही विष सा लग सकता है
सब समय की खेल है भैया सुनो
आज जो है कल न रहेगा अपना

तीन माह करने चली बरा बरी
तीन साल के साथ आंख मिचोली
काया की सुंदरता तो ढल जाएगी
वक्त के साथ ,रहेगी मन की गुण

केवल तन की सौंदर्य काम नहीं आती
मन के भी सब को होना चाहिए धनि
सोने की सुई है किस काम की होती
गरीब संभल न पायेगा सफ़ेद हाथी ..........सना
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.43918

average: 10.0

on: Oct 22, 2019
ratings: 4

tags: 🌹
language: hi

अजीब हम हैं
सबब के बग़ैर चाहते हैं
तुम्हें
तुम्हारी तलब के बग़ैर चाहते हैं
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.68632

average: 10.0

on: Oct 20, 2019
ratings: 12

language: hi

.इश्क़ नहीं आसान.....

इश्क़ नहीं इतना सुन्दर
जो हम समझते हैं ,

येह तो है हाथ मे
तेज दार् वाली तलवार ,

थोड़ा भट जाये तो ध्यान,
काटती है नस ,

और बहाती है
खून की धारा ,

साथ मे बेहती है
अश्रु धारा ,...

करदेती है
दिल से मज़बूर ,

सोचने की ताकत
होती है कमज़ोर,

कोई ना जाने
किससे होजाये प्यार,

ज़िंदगी भर
तडपना होती है तक़दीर,

इतना आसान भी नहीं
होती है इश्क़ की डगर...... .. शारू

 
Rate & comment on this.
 
 
 [1]  2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20  >>