Writings

Most Recent : All
Submit your own.  My Writings
Browse
Most Viewed
Top Rated
Most Recent

Category
All
Joke
Poem
Recipe
Other

Write your own
score: 9.30162

average: 10.0

on: Dec 14, 2017
ratings: 2

tags: Poem
language: hi

खुबसुरत आईना ए दिल , आप हो
नजारा क्या है, हकीकत बस आप हो

छुकर फूलों ने हमशे कहाँ , जरा जरा
पाया उसे , किस्मत वाले बस आप हो

महोबत भी क्या , लब ए बयान चाहती ?
मौन में छुपा वो,अहेसाल बस आप हो

तुटकर बिखरना फीर सँवरना जिंदगी ,
पतज़ड गई, बसंत बहार बस आप हो

क्या मिलना ,र्या बिछडना रोजरोज,
दिल ही आशियानाँ तुम, आप ही हो
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.71745

average: 10.0

on: Dec 14, 2017
ratings: 14

language: hi


_________________________________
....मै यादों का
किस्सा खोलूँ तो,
कुछ दोस्त बहुत
याद आते हैं....

...मै गुजरे पल को सोचूँ
तो, कुछ दोस्त
बहुत याद आते हैं....

_...अब जाने कौन सी नगरी में,_
_...आबाद हैं जाकर मुद्दत से....😔_

....मै देर रात तक जागूँ तो ,
कुछ दोस्त
बहुत याद आते हैं....

....कुछ बातें थीं फूलों जैसी,
....कुछ लहजे खुशबू जैसे थे,
....मै शहर-ए-चमन में टहलूँ तो,
....कुछ दोस्त बहुत याद आते हैं.

_...सबकी जिंदगी बदल गयी,_
_...एक नए सिरे में ढल गयी,_😔

_...किसी को नौकरी से फुरसत नही..._
_...किसी को दोस्तों की जरुरत नही...._😔

_...सारे यार गुम हो गये हैं..._
...."तू" से "तुम" और "आप" हो गये है....

....मै गुजरे पल को सोचूँ
तो, कुछ दोस्त बहुत याद आते हैं....

_...धीरे धीरे उम्र कट जाती है..._
_...जीवन यादों की पुस्तक बन जाती है,_😔
_...कभी किसी की याद बहुत तड़पाती है..._
_और कभी यादों के सहारे ज़िन्दगी कट जाती है ..._😔

....किनारो पे सागर के खजाने नहीं आते,
....फिर जीवन में दोस्त पुराने नहीं आते...

_....जी लो इन पलों को हस के दोस्त,_😁
_फिर लौट के दोस्ती के जमाने नहीं आते ...._

*....हरिवंशराय बच्चन*


_Dedicated to all freinds._
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.48946

average: 10.0

on: Dec 14, 2017
ratings: 5

tags: friends
language: hi

ज़ख्मो के निशा मेरे .... मिटकर भी नहीं मिटते ।

हैं ख्यालो में वो बसे ऐसे .. हटकर भी नहीं हटते ।

हैं इश्क़ ऐ सफ़र मुश्किल ..आधा तन्हा ही गुज़रता हैं ।

हैं कहते जिन्हें हमसफ़र ..संग चलकर भी नहीं चलते ।

हैं फ़रेबी .. तुम बच जाना... हुस्न के तिलिस्म से ।

होते हैं ये मृगतृष्णा .. .. मिलकर भी नहीं मिलते ।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Dec 13, 2017
ratings: 2

tags: Poem
language: hi

दिन ओर रात, सुबह ओर शाम ,एक नाम,
वफा की गोद में , तेरी रहेमत से गुजारा है
बेनाम जिंदगी क्या सुकुन देगी , जिस्मी हाल
नाम नामी से परे , तेरी रहेमत से गुजारा है
इतना हसीन तो नही होता नजारा़ ए जिंदगी
हर पंखुडी में हँसती तेरी तस्वीर में गुजारा है
फूल भी कभी नजाकत को देख तेरी कहे
पल हमने तेरे दिल की नजाकत में गुजारा है
महेफुस है तेरी महोबत ,शबनमी बूंदों में भी
हर सुबह तेरा अहेसास, फूलों पर गुजारा हे
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.58558

average: 9.88889

on: Dec 13, 2017
ratings: 10

tags: FRIENDS
language: hi

आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए,
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए,
करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो,
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए।
फिर से वो सपना सजाने चला हूँ;
उमीदों के सहारे दिल लगाने चला हूँ;
पता है कि अंजाम बुरा ही होगा मेरा;
फिर भी किसी को अपना बनाने चला हूँ।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Dec 13, 2017
ratings: 1

tags: FRIENDS
language: hi

आगोश-ए-सितम में छुपाले कोई,
तन्हा हूँ तड़पने से बचा ले कोई,
सूखी है बड़ी देर से पलकों की जुबां,
बस आज तो जी भर के रुला दे कोई।
भर आई मेरी आँखे जब उसका नाम आया,
इश्क़ नाकाम सही फिर भी बहुत काम आया,
हमने मोहब्बत में ऐसी भी गुज़ारी कई रातें,
जब तक आँसू ना बहे दिल को आराम न आया।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.43918

average: 10.0

on: Dec 10, 2017
ratings: 4

tags: friends
language: hi

Abhi is Taraf na Nigaah kar, main Gazal ki Palke sanwar lu,
Mera lafz-lafz hai Aaina, Tujhe Aaine Me Utar Lu…

Main Tamam din ka thaka Hua, tu Tamam shab ka jaga hua,
Zara thehar ja isi mod par tere saath sham guzar lu…

Agar Aasman ki Numa-e-Shoon me Mujhe bhi izan-e-kayam ho,
To main motiyo ki dukan se tere liye baaliya-haar lu…

Kahi or bant de Shohrate kahi or Baksh de Izate,
Mere paas hai mera Aaina main kabhi na Gard-do-Ghubar lu…

Kai Ajnabi teri raah me mere pass se yu guzar gaye,
Jinhe dekh kar ye tadap hui tera naam le ke Pukar lu…
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Dec 8, 2017
ratings: 1

tags: Poem
language: hi

मेरे जजबात का हुनर, तु समज ना पायेगा
चाँद सुनहरा जमीँन पर,तु ना कभी लायेगा

होश में कहाँ हुं मैं, बेहोशी बोलती है मेरी ही
लफ्जों की एहेमियत को तु ना समज पायेगा

तेरा होना मुंज मे फकत साँस की डोर नही है
जूंदामेरे जजबात का हुनर, तु समज ना पायेगा
चाँद सुनहरा जमीँन पर,तु ना कभी लायेगा

होश में कहाँ हुं मैं, बेहोशी बोलती है मेरी ही
लफ्जों की एहेमियत को तु ना समज पायेगा

तेरा होना मुंज मे फकत साँस की डोर नही है
जिंदा इहेसास जिंदगी को, तु समज ना पायेगा

तेरी हर अदा , तेरी हर धडकन सीर्फ मेरे लीए
मेरी धडकन ईबादत में, तु समज ना पायेगा इहेसास जिंदगी को, तु समज ना पायेगा

तेरी हर अदा , तेरी हर धडकन सीर्फ मेरे लीए
मेरी धडकन ईबादत में, तु समज ना पायेगा
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.63124

average: 9.90909

on: Dec 7, 2017
ratings: 12

tags: FRIENDS
language: hi

किसी के हो कर देखिये
प्यार में खो कर देखिये ।
ख्वाब भी आयेंगे जरूर
बेफिक्र सो कर देखिये ।
गम आंसूओं में बह जाये
थोड़ा सा तो रो कर देखिये।
तन्हाई भी तंग न करेगी
यादों को संजो कर देखिये ।
कभी न टूटेगी माला आप
प्रेम की पिरो कर देखिये ।
ज़ख्म सभी भर जाते हैं
आंसूओं से धो कर देखिये ।
जो अभी तक नही किया
उसको भी तो कर देखिये ।
फूल फल भी लग जाते हैं
कोई बीज बो कर देखिये ।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: Dec 7, 2017
ratings: 3

tags: friends
language: hi

ज़रा सी आहट होती है तो दिल सोचता है
कहीं ये वो तो नहीं, कहीं ये वो तो नहीं
ज़रा सी आहट होती है ...

छुप के सीने में कोई जैसे सदा देता है
शाम से पहले दिया दिल का जला देता है
है उसी की ये सदा, है उसी की ये अदा
कहीं ये वो तो नहीं ...

शक्ल फिरती है निगाहों में वोही प्यारी सी
मेरी नस-नस में मचलने लगी चिंगारी सी
छू गई जिस्म मेरा किसके दामन की हवा
कहीं ये वो तो नहीं ...
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.77362

average: 10.0

on: Dec 6, 2017
ratings: 19

language: hi

नज़र चाहती है दीदार करना
दिल चाहता है तुमसे बात करना
क्या सुनाऊं अपने दिल का आलम
मेरे नसीब मे लिखा है
सिर्फ़ तेरा इंतेज़ार करना.

अब आँसुओं को आँखों मे सजाना होगा
चिराग बुझ गये हैं खुद को जलाना होगा
वादे तोड़ के मुस्कुराते हैं आप
देखना एक दिन आपको भी पछताना होगा

जब हम हों तन्हा तो साथ रहना
रोएँ आँखें हमारी तो आँसू पोंछ लेना
क्यूंकि जब तक जिंदा हैं तब तक ही सतायेंगे
वादा है कि मरने के बाद तो याद भी नहीं आएँगे

परछाई आप की हमारे दिल मे है
यादें आप की हमारी आँखों मे है
कैसे भुलाएँ हम आपकी उन बातों को
प्यार आपका हमारी साँसों मे है.

वक़्त के साथ हर चीज़ बदल जाती है,
हर याद पर धूल चढ़ जाती है,
लेकिन आपकी तस्वीर दिल के उस कोने मे रखी है,
जहाँ साँस भी पूछ के जाती है.
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.48946

average: 10.0

on: Dec 6, 2017
ratings: 5

tags: friends
language: hi

टूट जाये न भरम होंठ हिलाऊँ कैसे..
हाल जैसा भी है लोगों को बताऊँ कैसे..

खुश्क आँखों से भी अश्कों की महक आती है ..
मैं तेरे ग़म को ज़माने से छुपाऊँ कैसे..

तू ही बता मेरी यादों को भुलाने वाले..
मैं तेरी याद को इस दिल से भुलाऊँ कैसे..

फूल होता तो तेरे दर पे सजा रहता..
ज़ख़्म ले कर तेरी दहलीज़ पे आऊं कैसे..

तू रुलाता है तो रुला मुझे जी भर के..
तेरी आँखें तो मेरी हैं, मैं इन को रुलाऊँ कैसे.
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.55823

average: 9.875

on: Dec 5, 2017
ratings: 9

language: hi

कुम्हलाई सी शाम
बिखरी सी थी
उसने अचानक पूछा
क्या हुआ
मैंने कहा कुछ नहीं
पर वो पीछा छोड़ने को
तैयार ही नहीं था
आदत है कभी नहीं होता
पता भी है मुझे फिर भी
उसने फिर पूछा
क्या सोच रही हो
कुछ नहीं कुछ भी तो नहीं
आज तो मै भी जैसे जिद
पर थी
मुझे पता है वो कभी नहीं
मानेगा हमेशा की तरह
पर आज मै भी हार नहीं
मानने को तैयार
हमेशा की तरह
मुझे पता है की
पढ़ लेता है वो
मेरा अंतर्मन
मेरी सोच फिर भी
पूछता है क्यों
अब यही क्यों मुझे नहीं चाहिए
मै जानती हूँ कि तुम पढ़ लेते
हो
मुझे मेरे अन्दर का झंझावात
कोलाहल सब पता है तुम्हे
तो पूछते क्यों हो
समझ जाओ मौन को
मौन की मुखरता तो सबसे
बड़ी आवाज होती है
पता है तुम्हे
अब कुछ नहीं
जिद है मेरी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.53147

average: 10.0

on: Dec 5, 2017
ratings: 6

tags: friends
language: hi

पहले इश्क़ को आग होने दीजिए,
फिर दिल को राख होने दीजिए...!

तब जाकर पकेगी बेपनाह मोहब्बत,
जो भी हो रहा बेहिसाब होने दीजिए...!

सजाएं मुकर्रर करना इत्मिनान से,
मगर पहले कोई गुनाह होने दीजिए...!

मैं भूला नहीं बस थोड़ा थक गया था,
लौट आऊंगा घर शाम होने दीजिए...!

चाँद के दीदार की चाहत दिन में जगी है,
आयेगा नज़र वो, रात होने दीजिए....!

नासमझ, पागल, आवारा, लापरवाह हैं जो,
संभल जाएंगे वो भी एहसास होने दीजिए...!!
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.49107

average: 9.83333

on: Dec 5, 2017
ratings: 7

tags: friends
language: hi

Aaj jra hawa me nami si hai,
Aaj jra teri mere man me kami si hai,
Aaya hai hawa ka jhoka yado ka mujhko choone,
Kyuki aaj rat tanhayiyo me meri thami si hai,
Jugnu jag-mag kr rahe hai,
Tare aakash me bikhre se hai,
Chand chandni failaye ja raha hai,
Fir kyu dil me aaj bhi teri yade basi si hai,
Kehna chahata hai man tujhse mera,
Ki mera pyar aaj bhi tere bin aadhura sa hai,
Aur meri zindagi me tere bin khusiya anchahi si hai,
Umeendo ki ragni kahi chipi si hai,
Tere bin yaha hawa me kuch nami si hai
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.43918

average: 10.0

on: Dec 4, 2017
ratings: 4

tags: Poem
language: hi

लगता है मन उदास है, शायद कोई नाराजगी है
बेउसुल जिया हु, मैं, शायद कोइ नाराजगी है

उलफत का रास्ता , हसीन तो नही दिलरुबाना
कांटो पर चलाया तो है ,शायद कोइ नाराजगी है

बेशक जीया हुं कफन बाँधकर हकीकी में जरुर
कोइ गीला सीकाइत , शायद कोइ नाराजगी है

लफ्जों से परे बनाया है आशियाँ ए महोबत ही,
क्युं याँबाजी का हुनर ,शायद कोइनाराजगी है

मुआफ कर देना, हो सके तो इस नाचीज़ को ,
होनाहार हेसियत नही, शायद कोइ नाराजगी है
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.53147

average: 10.0

on: Dec 4, 2017
ratings: 6

tags: friends
language: hi

अपनी आँखों में दरिया उमड़ते देखा,
जब कभी आँखों से अश्क उभरते देखा,
.
एक आँख के अश्क़ में था ग़म-ए-जुदाई,
दूजे में खुद को बिखरते देखा,
.
लरज़ती थी एक में मेरी अपनी तन्हाई
दूजे में अरमानो को सिमटते देखा,
.
वजूद ना उनका रहा, ना मेरा गुमान,
जब कभी मैंने दिल का आइना देखा,
.
मर भी जाता तो क्या ग़म था लेकिन,
ठहरे हुए वक़्त में खुद को क़ैद देखा...
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Dec 3, 2017
ratings: 2

tags: Neel
language: hi

Ek Sethh ne Sindhi Salesman Rakha..
Sales 4 Guna ho gaya...
Sethh ek din Sindhi se milne Shop pe aaya..
Wo Grahak ko Fishing Rod bech raha tha.. Sethh khada hokar dekhne laga..
Grahak ne 800rs. me Fishing Rod kharid li..
Sindhi Salesman bola Itne mahnge Joote pahankar Fishing karoge.? Sports shoes le lijiye.. Grahak ne Shoes 600 me le liya....
Sindhi bola- Dhoop lagegi ek Topi bhi le lijiye...Usne le liya..
Sindhi bola- Fishing karte hue bhook bhi lagegi, to kuchh khane ko le lijiye...
Usne Chips, Biscuits le liya ..
Sindhi bola- Fish rahkhne ke liye Ek basket bhi le lijiye..
Usne le liya..Iss tarah uska bil 8000 bana..
Sethh bahot khush hokar bola,
Tum ek achhe salesman ho... Wo kewal fishing rod lene aaya tha aur tumne itna samaan bech diya...
Sindhi Salesman:- Seth ji, woh to biwi ke liye "WHISPER" lene aaya tha..
Maine bola... 4 din kya karoge??
Jaao jaakar Machhli Pakdo..!!
:P
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.43918

average: 10.0

on: Dec 3, 2017
ratings: 4

tags: friends
language: hi

इन आँखों में डूब कर मर जाऊं,
ये खूबसूरत मैं काम कर जाऊं,

तेरी आँखों की झील उफ़्फ़ तौबा,
इन गहराईओं में मैं अब उतर जाऊं,

तेरी आँखें हैं या मय के ये पैमाने हैं,
पी लूं और हद से मैं गुजर जाऊं,

एक शिकारा है जो तेरी आँखों में,
तू कहे अगर तो इनमें मैं ठहर जाऊं,

तेरी आँखों की झील सी गहराई में,
जी चाहता है मेरा आज मैं उतर जाऊं।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.48946

average: 10.0

on: Dec 1, 2017
ratings: 5

tags: ....
language: hi

*सो जा ऐ दिल*
*कि अब धुन्ध बहुत है तेरे शहर में...।*

*अपने दिखते नहीं*
*और जो दिखते है वो अपने नहीं…।।*
 
Rate & comment on this.
 
 
<<1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19  [20]