Writings

Most Recent : All
Submit your own.  My Writings
Browse
Most Viewed
Top Rated
Most Recent

Category
All
Joke
Poem
Recipe
Other

Write your own
score: 9.30162

by: Saloni
average: 10.0

on: Jul 15, 2019
ratings: 1

language: hi

लकीरो पर नहीं रखा करो,
विश्ववास साहिब,
किस्मत तो उनकी भी होती है,
जिनके हाथ नहीं होते जनाब।
सलोनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

average: 0

on: Jul 14, 2019
ratings: 0

tags: Bihar
language: hi

बिहार में पिछले सात दिनों से हो रही बारिश से नदियों के जलस्तर में वृद्धि आयी है साथ ही नेपाल से छोड़े जा रहे पानी से बिहार में बाढ़(Flood) का खतरा मंडराने लगा है। बिहार में अगले 24 घंटे तक भारी बारिश की चेतवानी मौसम विभाग ने जारी की है।

https://navbiharpatrika.com/flood-situation-in-bihar-due-to-heavey-rain/
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

by: Saloni
average: 10.0

on: Jul 14, 2019
ratings: 1

language: hi

बचपन का दिन कितना सुहाना था,
वक़्त कितना अच्छा गुज़ारा था,
माँ की गोद में सोया करते थे ,
अब माँ की यादो में जीया करते है।
सलोनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.27898

average: 9.3125

on: Jul 13, 2019
ratings: 17

language: hi

,,,,,,,,,,,,,,,जवानी ,और दीवानी ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,जे , बी ,,,

अगर इंसान होगया तो जवान
समझो आगया ज़िन्दगी में उफान
पीछे न छोड़ता है पागल तूफ़ान
जवानी के रहते होता है मन हैरान ,,,,,,,,,,,।,,,,,,,,,,,,.....शरू।२,४४
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxXXXX।
जवानी तो यारा दीवानी होती है ।
हर जवानी की एक अलग कहनी होती है ॥
वो जवानी किस काम की जिसमे उफान ना हो ?
बेकार है वो जि़न्दगी जिसमे तूफान ना हो ॥ ,,,,,,,,,,,...,..राज ५,५१
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxXX

जिंदगी की दस बीस साल होती है बचपन
और दस बीस साल प्यार की दीवानापन
और दस बीस साल संसार का उठावो बोज
बाद में सताये बुढ़ापा क्या यही है ज़िन्दगी ?,,,,,,,...........शरू ,,,,,६,०२ PM
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxXX

हाँ यही है जि़न्दगी की असली कहानी ।
थोड़े बचपन की दिन और फिर जवानी ॥
और जब पचपन और जवानी की याद सताए ।
यारों यहीं है बुढ़ापे की सच्ची निशानी ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज PM
६,०९
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxXXX

बुजुर्ग कहते हैं बचपन में न करे कोई उछल खूद,
जवानी सब को आती हैं एक दिन , जाती है एक दिन ,
उसका क्यों न करे हम सब मिलकर सदुपयोग,?
तभी तो बढ़ापे में बैठकर हम कर सकेंगे आराम ,,,,,,,,,,,,शरू ६,२० PM
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxXXXXXXXXXXXX

बचपन में उछल कूद और जवानी में इश्क करो बकायदा ।
बुढ़ापे में राज करने को मिले तो क्या है फायदा ॥
जवानी में करें सत्कर्म ना छोड़े धर्म का रास्ता ।
बस सुकून से राम का नाम लेते जाए बुढ़ापा ॥ ,,,,,,,,,,,........राज ६।२८ PM
,XXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXX
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.63124

average: 9.90909

on: Jul 11, 2019
ratings: 12

language: hi

"गिरना भी अच्छा है,
औकात का पता चलता है…
बढ़ते हैं जब हाथ उठाने को…
अपनों का पता चलता है!
जिन्हे गुस्सा आता है,
वो लोग सच्चे होते हैं,
मैंने झूठों को अक्सर
मुस्कुराते हुए देखा है…
सीख रहा हूँ मैं भी,
मनुष्यों को पढ़ने का हुनर,
सुना है चेहरे पे…
किताबो से ज्यादा लिखा होता है…!”
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

by: Saloni
average: 10.0

on: Jul 3, 2019
ratings: 1

language: hi

तड़प के पुकारेंगे क्या होगा,,
यह बाज़ी इश्क में हारेंगे तो क्या होगा।

तेरे हाथो को चूम लेंगे तो क्या होगा,
तुम मेरे साथ नही रहोगे तो क्या होगा ।

मेरी हालात पर हँसे जरूर होंगे ,
अपने अश्खो को छुपा लुंगी तो क्या होगा।

दुनियां वाले तो चोट देकर माज़ा लेते है,
दिल तोड़ कर ठोकर देते है तो क्या होगा।

तेरे ज़ख़्मो को खाया बहुत है,
थोड़ा और सहन कर लेंगे तो क्या होगा।

सलोनी को कोई नही है शिकवा,
करती हूं इस मेहफिल को अलविदा।

सलोनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Jul 3, 2019
ratings: 2

tags: friends
language: hi

मुझे अपनी मुहब्बत के फसाने याद आते हैं।
लबों पर गुनगुनाते थे तराने याद आते। हैं ।

किनारे बैठकर तालाब के जब खाब देखे थे ,
हुई बरसात के मौसम सुहाने याद आते हैं।

कभी तन्हाई में बैठा अकेला सोचता हूँ मैं ,
किये अब तक इकटठे जो खजाने याद आते हैं।

हटा पाया नहीं जिनको कभी अपने ख्यालों से ,
मुझे गुजरे हुए मंजर पुराने याद आते हैं।

बहाकर ले गए आंसू पले थे खाब आँखों में ,
बचीं वीरानियाँ केवल निशाने याद आते हैं।

न जाने किस तरह की थी इबादत उन दिनों मेरी ,
किये सजदे जहां मैंने ठिकाने याद आते हैं।

कभी मंदिर कभी अपनी सहेली के बहाने से ,
हुईं कितनी मुलाकातें बहाने याद आते हैं।

पता ही ना चला मुझको हुआ है इश्क भी उनको ,
मिले इस बात पर कितने उल्हाने याद आते हैं।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

by: Saloni
average: 0

on: Jul 1, 2019
ratings: 0

language: hi

है रिश्ता हमारा,
प्यारा सा।
है रिश्ता हमारा गहरा सा ।
है रिश्ता हमारा,
नाजुक सा ।
है रिश्ता हमारा,
प्यारा सा ।
है रिश्ता मेरा सा,
है रिश्ता हमारा,
पुराना सा ।
बना है रिश्ता हमारा,
बड़े प्यार से।
ऐ दोस्त,
लाखो मैं, तुम एक हो।
ऐ दोस्त,
तुम, बहुत नेक
हो।
नसीब है हमारा बहुत अच्छा,
तक़दीर मैं आये हो हमारे।
है रिश्ता हमारा तुम्हारा पुराना।
है रिश्ता हमारा,
है जन्म जन्म का,
रिश्ता हमारा,
रहते हो दिल मे हमारे।
ऐ दोस्त,
दुआ है हमारी,
तुम जियो हज़ारो साल।
ऐ खुदा,
कबूल कर दे,
दुआ हमारी।

सलोनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

by: Saloni
average: 10.0

on: Jun 29, 2019
ratings: 2

language: hi

जो सुख में साथ दें,वे रिश्ते होते हैं!! जो दुख में साथ दे, वे फरिश्ते होते हैं!!
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

by: Saloni
average: 0

on: Jun 29, 2019
ratings: 0

tags: रंग
language: hi

वो क्या ज़माना था,

कोई मेरा दीवाना था।

हम तुम एक थे,

बेहपना मोहब्बत करते थे।

न कोई दर्द था,

हम दोनों खुल कर हॅसते थे।

अब न कोई अहसास है,

न कोई गम है,

न कोई मन।

हम तुम एक नही रहे ,

न जाने कैसे है ज़िन्दगी का रंग ,

अब हम नही रहे तुम्हारे संग।

सलोनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.48946

by: Saloni
average: 10.0

on: Jun 26, 2019
ratings: 5

tags: दिल
language: hi

हाँ एक पल आया ,
मायूसी सी भरी हुई थी मेरी ज़िन्दगी।

न जीने की इच्छा दिल में,
न कुछ करने की ख्वाइश ।

न अपनों का साथ ,
न कोई पहचान।

हाँ एक पल आया ,
आज ज़िन्दगी खूबसूरत लगने लगी,

दिल में तमन्ना जग गयी,

कुछ अछा करने की इच्छा जग गयी,

कुछ अच्छा लिखने की आग ,
दिल में जग गयी।

अब अपनों का साथ ,

और ,

मेरी पहचान।

सलोनी
🌼🌼🌼
🌸🌸🌸
🌷🌷🌷
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.53147

by: Saloni
average: 10.0

on: Jun 24, 2019
ratings: 6

tags: मज़ा
language: hi

ज़िन्दगो जीने के लिए अपना ही मज़ा है!

बच्चपन से जवानी का अपना ही मज़ा है!

बुढ़ापे तक जीने की उम्मीद क्यों करो यारो !

जीवन जीने का अपना ही अलग नशा है!

दोस्तों संग मस्ती करने का अपना ही मज़ा है!

किसी को प्यार तो किसी को इक़रार में मज़ा है!

मोहब्बत कर के जो वादा निभाये उनमे अपना ही माज़ा है!


खुल के हँसने का अपना ही नशा है!

जो दुःख सुख में साथ निभाए
वही असली माज़ा है यारो!

सलोंनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

by: Saloni
average: 10.0

on: Jun 21, 2019
ratings: 1

tags: योग
language: hi

रहे तन से स्वस्थ ,

रहे मन से तंदरूस्त,

जीवन में सब है व्यस्त ,

कर दे सब को मस्त ,

न करो अपना जीवन नष्ट ,

थोड़ा सा उठाओ कष्ट ,

करो थोड़ी कसरत,

यह जीवन जीने का अच्छा उपयोग ,

भगाओ सब रोग,

रहो सदा निरोग।

सलोंनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.59768

average: 10.0

on: Jun 20, 2019
ratings: 8

language: hi

......योग भगाऐ सब रोग......
आजकल के सुख संपन्न जीवन मे हर रोज
मानव कर रहा है हर प्रकार के सुख भोग
पर नियति का कैसा है ये संजोग
पाल बैठा अपने शरीर पर नाना प्रकार के रोग

मानवता पर छाई है ये कैसी लाचारी ,
लग गया शरीर पर नयी नयी बीमारी ,
अगर भगाना है अपने शरीर से तमाम रोग ,
तो रोज सुबह उठकर जरूर करो सभी योग ,

प्रातःकल करें प्राणायाम और सूयॆ नमसकार ,
फिर देखो कैसे होता है योगा का चमत्कार ,
रहेगा ना तन मन मे रोग का नामो निशान ,
स्फुतीॅ रहेगा तन और रहेगा मन रहेगा जवान .

ऋश्री मूनीयो का मानवता पर ये है उपकार ,
योग यह भारत के तरफ से दूनिया को है उपहार ,
योग नही प्रचार करता है कोई मजहब या धर्म,
सिर्फ़ सिखाता है इनसान को कैसे रहे अरोग्य पूर्ण.
..................................................- कवि... राजेश सिंह ..21.6.15
ON INTERNATIONAL DAY
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

by: Saloni
average: 10.0

on: Jun 20, 2019
ratings: 3

language: hi

न तू गलत ,
न मैं गलत ,
सब है बात हालात की,
सब है बात जज़्बात की।

छोटी सी ज़िन्दगी,
चार दिन की ज़िन्दगी ,
ख़ुशी से जियो,
न तुम रूठो,
न हम रूठे ,
न तुम झूठे ,
न हम झूठे ,
फिर क्यों तुम रुलाते ,
भूल जाओ यह सब बातें ,
चलो आजो हम तुम्हे बुलाते ।
सलोनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.30162

average: 10.0

on: Jun 20, 2019
ratings: 2

tags: Sharuu
language: hi

.......................विश्व योग दिवस............

सुबह सुबह मेरी दोस्त राज का फ़ोन
याद है क्या .....कल इक्कीस जून ..?
सो व्हाट ..? मई ने पुछा गुस्सा से
अरे पगली यह तो 'विश्व योग दिन '...

क्या तुम कुछ नया लिखे हो ..?
हे, गया साल का ही है न पोस्ट कर दो
लास्ट ईयर का नहीं वोह होगये पांच साल
ताल दिया उसने बिलकुल नहीं है मेरे पास ...

तुम लिख दो न तू तो है योग प्रवीण
लगाने लगा मस्का उसने तू तो जानती है
योग का ए बी सी डी मुझ से बेहतर
बिलकुल नहीं है मेरे पास बनाया बहाना ....

बाल्य से ही जुडगया था योग और मेरी सबंध
कहीं भी हो योग का वर्ग मई होती हाजिर
प्राणायाम में अपनी श्वास पर कर लेती नियंत्रण
आसन करके आसानी से शरीर पर नियंत्रण ...........

सुबह की हवा अम्लजनक से भरपूर
हमारी श्वास कोशको देती है नव चैतन्य
पद्मासन , धनुरासन ,हलासन ,वज्रासन
बना देते हैं बदन को वज्रों से भी कठिन ...........

आवो ,सब मिल के करे योगासन
भगाये रोग करके प्राणायाम
लेंगे एक प्रतिज्ञा आज विश्वयोग के दिन
विश्वबंधुत्व करके दिख्लायेंगे आज के दिन ..........शरू २०.६.१९ ..८ पि एम्









 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

by: Saloni
average: 0

on: Jun 19, 2019
ratings: 0

tags: मैं
language: hi

ज़िन्दगी मेरी एक खुली किताब है ,
जैसे संभाली हुई पुरानी चीज़ होती है,
कभी पन्ने पलट कर देखो जरूर,
अपने मन की आँखों से देखो हजूर,
अल्फ़ाज़ वैसे के वैसे पाओगे जरूर
जैसे मैं कल थी ,
वैसे आज भी हूं,
और,
कल भी ऐसे ही रहूँगी,
अपकीं प्यारी दोस्त सलोनी
सलोनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.37792

average: 10.0

on: Jun 15, 2019
ratings: 3

tags: friends
language: hi


कहने को सभी अपने
कोई पराया नहीं,
गिरे जब जमीन पे तो
किसी ने उठाया नहीं ।

लुटाई जब दौलत हमने
कोई शरमाया नहीं,
लुट गए हम जब खुद तो
कोई पास आया नहीं ।

जिन्हे चाहा बेपनाह
वो चुरा गए मेरी चाह,
भटकते रह गए हम
वो पा गए नहीं राह ।

कहानी जिंदगानी की
सुना रहे हैं हम,
नगमें रोज नए-नए
गुनगुना रहे हैं हम।

दर्द-ए-दिल की दास्तान
बता रहे हैं हम,
लुट लो तुम जी भर के
लुट जाने का नहीं हमे गम ।
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 9.48946

by: Saloni
average: 10.0

on: Jun 14, 2019
ratings: 5

tags: हम
language: hi

कल का पता नही,
पल का पता नही,
चल मस्ती कर लो ,
ज़िन्दगी का कुछ पता नही ,
कल हो या या न हो ,
हम रहे या नही ,
चलो मिल लो वही,
दूर कही ,
आसमान तले ,
खिलखिला के हँसे,
सब को खुशियाँ मिले।
सलोनी
 
Rate & comment on this.
 
 
score: 0

by: Saloni
average: 0

on: Jun 9, 2019
ratings: 0

tags: दिन
language: hi

फिर ऐसा भी दिन आये,
जहाँ दुख दूर हो जाये ,
सब की भूख प्यास मिट जाए ,
सब के चेहरे में मुस्कान आ जाए।

ऐसा भी दिन आये ,
हम सब एक हो जाये ,
दिल में सकून मिल जाये।
सलोनी
🌼🌼🌼
🏵️🏵️🏵️
🌸🌸🌸
 
Rate & comment on this.
 
 
<<1 2 3 4  [5]  6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20  >>