🔥बेवफ़ा की दोस्‍ती 🔥

by: Chandni ✨ॐ🙏' (on: Apr 25, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Channdni
.
बरसात होगी अश्‍क की मेरे लि‍ए कभी।
रोया करेंगेआप भी मेरे लि‍ए कभी।

ढक जायेगी गुलों से मेरी क़ब्र देखना,
ऐसी बहार आएगी मेरे लि‍ए कभी।

ऐ ज़ख्‍़म दे के भूलने वाले ज़रा बता,
मरहम की तूने फ़ि‍क्र की मेरे लि‍ए कभी।

दोज़ख़ बनी है आज वो मेरे फ़ि‍राक़ में,
दुनि‍या जो एक स्‍वर्ग थी मेरे लि‍ए कभी।

'चाँदनी ' न था खयाल कि महँगी पड़ेगी यूँ,
इक बेवफ़ा की दोस्‍ती मेरे लि‍ए कभी। :) ♥ ❤️

......................................'चाँदनी '
score: 9.49107
average: 9.83333
Ratings: 7
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
944 days ago
सुंदर
 
 
944 days ago
lovely
 
 
944 days ago
Rating: 10
 
 
945 days ago
Rating: 10
 
 
945 days ago
वो इश्क ही क्या, हिज्र नसीब न हो जिसका
जो भी मिल जाए, उसकी तलब कहां रहती है किसी को
 
 
945 days ago
Rating: 6
 
 
945 days ago
nice
 
 
945 days ago
Rating: 10
 
 
945 days ago
nice
 
 
945 days ago
Rating: 10
 
 
945 days ago
Beautiful
 
 
945 days ago
Rating: 9
 
 
945 days ago
कभी पलटो गे जिंदगी के ये पन्ने.. तो शायद आप की आँखों से भी बरसातें होंगी। I recall this poem also... Nice writing
 
 
945 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]