💞 कहीं तुम तो नहीं हो 💞

by: Chandni ✨ॐ🙏' (on: May 3, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Chandnni

💞महसूस किया तुम को तो गीली हुई पलकें
भीगे हुये मौसम की अदा -कहीं तुम तो नहीं हो

सुन ली जो ख़ुदा ने वो दुआ कहीं तुम तो नहीं हो
दरवाज़े पे दस्तक की सदा -कहीं तुम तो नहीं हो

सिमटी हुई शर्माई हुई रात की रानी
सोई हुई कलियों की हया -कहीं तुम तो नहीं हो

महसूस किया तुम को तो गीली हुई पलकें
भीगे हुये मौसम की अदा -कहीं तुम तो नहीं हो

इन अजनबी राहों में नहीं कोई भी मेरा
किस ने मुझे यूँ अपना कहा -कहीं तुम तो नहीं हो
.
.............. ''चाँदनी ''💋
score: 9.48946
average: 10.0
Ratings: 5
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
938 days ago
Rating: 10
 
 
938 days ago
अजनबी रास्तों पे चल के आये हमसफ़र - कहीं तुम तो नहीं हो।।
बेहतरीन
 
 
938 days ago
Rating: 10
 
 
938 days ago
Rating: 10
 
 
938 days ago
कुछ आहटें थी अनसुनी , कुछ सपने थे अन देखे। न जाने वो क्या पल था जिस वक़्त नसीब था मेरा बदला। जब दिल मेरा कहने लगा थम जा अब तू जरा। बरसात होने …
 
 
938 days ago
मुझे पढ़ता कोई तो कैसे पढ़ता
मिरे चेहरे पे तुम लिक्खे हुए थे
 
 
938 days ago
Rating: 6
 
 
938 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]