.💞 सबकी मेहबूबा है💞

by: Chandni ✨ॐ🙏' (on: May 12, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Chandnni
.
.
💞सबकी मेहबूबा है वो सबके दिल की रानी है।
मेरी गली के लड़कों पे जबसे आई जवानी है।
कभी कभी लगती मुझको वो सब तालों की चाबी है।
और जिससे पूछों वो ही कहता भैया तेरी भाभी है।
'
💞 जब अपनी सखियों के संग जाती वो बाजार है।
ऐसे खुश होते हैं सारे जैसे कोई त्यौहार है।
किसी के दिल को चैन नहीं है सबकी नींद चुरायी है।
किसी को लगती रसगुल्ला तो किसी को बालूशाही है।
गली के सारे लड़कों का ऐसा हाल कर डाला है।
सब जन्मों के प्यासे हैं वो अमृत का प्याला है।
'
💞कॉलेज का क्या हाल सुनाऊं सब जगह उसका चर्चा है।
और महंगाई की तरह बढ़ रहा लड़कों का अब खर्चा है।
अम्बर पूरे हो पाएंगे क्या उनके मनसूबे हैं।
कॉलेज के सारे लड़के ही अब कर्जे में डूबे हैं।
.
......................... चाँदनी ' 🔥
score: 9.59768
average: 10.0
Ratings: 8
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
904 days ago
nice n true
 
 
904 days ago
Rating: 10
 
 
929 days ago
Achcha hai
 
 
929 days ago
Rating: 10
 
 
929 days ago
लाजवाब
 
 
929 days ago
Rating: 10
 
 
929 days ago
Rating: 10
 
 
929 days ago
अति सुन्दर
 
 
929 days ago
CHANDANI THIS POEM IS WRITTEN BY YOU OR IT IS SOMEONES,,,,,,,BUT STILL IT IS EXCELLENT
 
 
929 days ago
Rating: 10
 
 
929 days ago
Ur poems r authored by u ??
 
 
929 days ago
Rating: 10
 
 
929 days ago
bahut khub
 
 
929 days ago
Rating: 10
 
 
929 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]