आ जाती है

by: anand anand (on: May 29, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem
रुक जाती है
=======

तेरे कदमों की आहट, कही कहीं रुक जाती है
खुश्बु तेरे तन मन की , मेरी तरफ आ जाती है

बडा शर्मिलापन है, खिलनेको बेताब कलियाँ
सहर सुहानी ,खुरशीद लीए फीर आ जाती है

आगोश मे लेती , मौसम ए बहार दिलरुबाना
दिल ए नूर तस्वीर ,दिल मे बस छा जाती है

हर सहर सुनहरी लेकर मौज मस्ती भर देती है
कोई अहेसास भीगा जजबात शबनमी आती है

लौट कर कहाँ जाउँगा ,साहिल को मिलकर ही
खबर मिली, मजधार कस्ती रुहानी बुलाती है

मेरा आना जाना ,सफर ए मौज हकीकी सदा
नूर ए अलम ,नूरानी यादे दिल में आ जाती है
score: 9.53147
average: 10.0
Ratings: 6
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
800 days ago
wonderful
 
 
800 days ago
Rating: 10
 
 
801 days ago
Fir Wahi Fasaana Afsaana Sunaati Ho
Dil Ke Paas Hoon Kah Kar Dil Jalati Ho
Beqaraar Hai Aatish E Nazar Se Milne Ko
To Fir Kyon Nahi Paas aa jati ho..
 
 
801 days ago
Rating: 10
 
 
801 days ago
Rating: 10
 
 
801 days ago
मेरा आना जाना ,सफर ए मौज हकीकी सदा
नूर ए अलम ,नूरानी यादे दिल में आ जाती है

niceone
 
 
801 days ago
Rating: 10
 
 
802 days ago
Thanks
 
 
802 days ago
Rating: 9
 
 
802 days ago
मेरा आना जाना ,सफर ए मौज हकीकी सदा
नूर ए अलम ,नूरानी यादे दिल में आ जाती है
 
 
802 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]