सनम

by: anand anand (on: Jun 17, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem
बँध आँखों में , दिदाद ए यार तु ही सनम
खुली आँखों का सपना हसीन तु ही सनम

हरतरफ से दरतरफ ह गया मन क्युं मेरा
मेरे मन के बाहर भीतर, एक तु ही सनम

लफ्ज़ से बयाँ कहाँ ,जजबात की कस्ती में
उफान ही उफान, दरिया दिल तु ही सनम

छु कर चला जाता हसीन हुश्न दिल से मेरे
रंग ए नूर चश्मा , ईबादत मेरी तु ही सनम

हयाति मिट गई जमाने से मेरी यकीनन ही
एक तु मुज में , हयाति मेरी बस तु ही सनम
score: 9.31015
average: 9.5
Ratings: 5
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
778 days ago
superb
 
 
778 days ago
Rating: 10
 
 
782 days ago
Rating: 9
 
 
782 days ago
Rating: 10
 
 
782 days ago
Good
 
 
782 days ago
Rating: 8
 
 
782 days ago
हर लम्हा हसीन गुजरे ,
दिल ए यार आईने से गुजरे

हर तरफ तस्वीर ए यार
खुशनुमा दिन रात गुजरे

मिले सपनों का सहर यहाँ
खुरशीद के साथ गुजरे

भीगे जजबात ,फूलों पर
नजाकत भरी जिंदगी गुजरे

हुश्न होनहार ,चाँद शरमाए
महेफुस हजारों चाँद गुजरे

मिले नूर ए नजर ,आब ए हयात
लहद में दिल बार बार गुजरे
 
 
782 days ago
हर लम्हा हसीन गुजरे ,
दिल ए यार आईने से गुजरे

हर तरफ तस्वीर ए यार
खुशनुमा दिन रात गुजरे

मिले सपनों का सहर यहाँ
खुरशीद के साथ गुजरे

भीगे जजबात ,फूलों पर
नजाकत भरी जिंदगी गुजरे

हुश्न होनहार ,चाँद शरमाए
महेफुस हजारों चाँद गुजरे

मिले नूर ए नजर ,आब ए हयात
लहद में दिल बार बार गुजरे
 
 
782 days ago
हर लम्हा हसीन गुजरे ,
दिल ए यार आईने से गुजरे

हर तरफ तस्वीर ए यार
खुशनुमा दिन रात गुजरे

मिले सपनों का सहर यहाँ
खुरशीद के साथ गुजरे

भीगे जजबात ,फूलों पर
नजाकत भरी जिंदगी गुजरे

हुश्न होनहार ,चाँद शरमाए
महेफुस हजारों चाँद गुजरे

मिले नूर ए नजर ,आब ए हयात
लहद में दिल बार बार गुजरे
 
 
782 days ago
Rating: 9
 
[View All Comments]