नजर ए हाल

by: anand anand (on: Jun 28, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem
जीयें हम बेउसुल है, नज़र ए हाल दुनिया
अपनी हस्ती है मिटाना ,नज़र ए हाल दुनिया

वफा बहुत की है ,जफाभी बहुत की है हमने
बेदाग गुज़रा जमाना, नज़र ए हाल दुनिया

छुकर दिल की तमन्ना, नीकले हुश्न वाले यहॉ
तकदीर का शरमाना, नज़र ए हाल दुनिया

उलफत के आयने मैं, बेसुमार हसीन हुशन है
नज़र का नूर आज़माना, नज़र ए हाल दुनिया

बेशक हम तो फकीर है, जोली फैलाये खडे है
हक्क हकीकी कारनामा, नज़र ए हाल दुनिया
score:
average:
Ratings:
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!