फरेब

by: anand anand (on: Jul 8, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem
,फरेब है , जीस्मी साये से जुड जाना
पंच तत्व ,मीट्टी ,आब पवन जुड जाना

जजबात की बात ,उफान पर आ जाये
हाल ए दिल रुहाना , खुबसुरत हो जाना

गुल ए नूर ,खील जाना ,भाव में भरकर
भीगा भीगा शबनमी , हाल हो जाना

कभी रुस्वाई ,कभी गीला सीकवा भी
मनाही के दौर से , अजीब गुजर जाना

कुचे के कब्र तक ,सफर है यह जिंदगी
महोबत में दिल ए यार ,फना हो जाना

फरेब है हाल ए जीस्म ,बहलाहट जिंदगी
अबदल रुह में बस , नूराना हो जाना
score: 9.52702
average: 9.85714
Ratings: 8
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
850 days ago
Rating: 10
 
 
868 days ago
Rating: 9
 
 
868 days ago
v nice
 
 
868 days ago
Rating: 10
 
 
868 days ago
कभी रुस्वाई ,कभी गीला सीकवा भी
मनाही के दौर से , अजीब गुजर जाना

Nice n touching lines .. thnx
 
 
868 days ago
Rating: 10
 
 
868 days ago
Thanks
 
 
868 days ago
Rating: 9
 
 
868 days ago
Beautiful....
 
 
868 days ago
Rating: 10
 
 
868 days ago
hmm this truth
 
 
868 days ago
Rating: 10
 
 
870 days ago
nice
 
 
870 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]