जिंदगी मेरी

by: anand anand (on: Jul 21, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem
आखरी साँस है कब , क्या पता है जिंदगी मेरी
लफ्ज से गुजरा हुं ,हकीकत बयाँ जिंदगी मेरी

चाहत की रंगीनियों से सराबेर हुं मैं यकीनन ही
पायी है महोबत दोस्ताना , प्यार भरी जिंदगी मेरी

उसुल परस्ती मैं जीना ,अंजाम ए महोबत दुनिया
बेउसुल आशियाँ ए महोबत , ईबादत जिंदगी मेरी

बेहद चाहा है ,मिशाल क्या दु जहाँ की मैं याराना
चाँद का हुश्न नजरों में , नजर ए नूर जिंदगी मेरी

मेरा हक़ नही ,फर्ज है , सराहना लफज में हयात
मेरी दुआ आपके लीए , फितरत यह जिंदगी मेरी
score: 9.55823
average: 9.875
Ratings: 9
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
846 days ago
nice
 
 
846 days ago
Rating: 9
 
 
846 days ago
Thanks
 
 
853 days ago
मेरा हक़ नही ,फर्ज है , सराहना लफज में हयात
मेरी दुआ आपके लीए , फितरत यह जिंदगी मेरी
Bahut khoob
 
 
853 days ago
Rating: 10
 
 
855 days ago
Rating: 10
 
 
855 days ago
Thanks
 
 
855 days ago
so touchy lines sir why so sad?
 
 
855 days ago
Rating: 10
 
 
857 days ago
very nice
 
 
857 days ago
Rating: 10
 
 
857 days ago
Thanks
 
 
858 days ago
Nice one
 
 
858 days ago
Rating: 10
 
 
858 days ago
कहीं मिले नजर ए नूर जमाना, कहीं दिल आजमाना
रुखसत भी हसीन यारों , मौज ए मस्त दिलरुबाना

कहीं बीछड भी जाए ,हसीन लम्हें हजार जिंदगी याराना
सफर रुकती कहाँ , रुह में मस्त खेलदिली दिलरुबाना
 
 
859 days ago
VERY TRUE
 
 
859 days ago
VERY TRUE
 
 
859 days ago
Rating: 10
 
 
859 days ago
AWESOME
 
 
859 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]