रहने दो

by: anand anand (on: Jul 27, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem
बहुत झेला हैं अँधेरा कलियों ने,
यह खुला आसमान रहने दो ,

नसीब हो तराने दिल खुशनुमा
यह फूलों की जवानी महकने दो

बडा खुशनुमा है नीला आसमान
सितारों की तरह टिमटिमाने दो

गजब है हुश्न ,चाँद का यह दिल
चाँदनी तरह चमकने दो,


बडी रहेमदिल है कुदरत ,जहाँ
करिश्मा ए दिल बहकने दो

वक्त की आगोश में पलती जिंदगी
जिंदादिल कुछ पनपने दो
score: 9.3407
average: 9.66667
Ratings: 4
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
836 days ago
Rating: 9
 
 
836 days ago
wonderful
 
 
836 days ago
Rating: 10
 
 
853 days ago
Thanks
 
 
853 days ago
Rating: 9
 
 
853 days ago
nice
 
 
853 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]