,दिलरुबाना

by: anand anand (on: Aug 3, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem
अश्क भी बहाना ,बादल भी बहाना ,
बहाना इश्क का इल्म ,दिलरुबाना

आब ही ईबादत, मौसम है बारिशाना
बहाना बरसती ,आँखे दिलरुबाना

तपन सही है ,तन्हाई में बहुत रुहाना
नूर ए नजर ,फकत तुम दिलरुबाना

मिलकर बीछडे ,सावन कइ जिंदगी
सनम रुहानी खेल, बहुत है बीरहाना

टुटती साँस की डोर में जुडी महोबत
बरस जा सनम , दिल से दिलरुबाना
score: 9.30162
average: 10.0
Ratings: 2
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
841 days ago
Thanks
 
 
843 days ago
gd1
 
 
843 days ago
Rating: 10
 
 
845 days ago
nice 1
 
 
845 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]