दोस्त

by: 📒My Diary✍❤My Life✍ ✍.. (on: Aug 9, 2018)
Category: Other   Language: Hindi
tags: ..
है एक दोस्त जो रखता है ख़बर मेरी…..

ख़ामोश पढ़ता है वो हाल मेरा

दबे पाँव आता है फिर लौट जाता है

न अश्क़ों को मेरे देता है अब वो काँधा

न लबों पे मेरी मुसकान बुलाता है

मेरे नाम को आवाज़ नहीं देता है वो

न अब मरहम मेरे ज़ख़्मों पे लगाता है

है शायद बहुत नाराज़ वो मुझसे

रूठ गयें हैं लफ़्ज़ भी जो मनाते उसे

खामोश लिखती हूँ मैं हाल अपना

है एक दोस्त जो रखता है अब भी ख़बर मेरी……..
score: 9.30162
average: 10.0
Ratings: 2
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
839 days ago
Jaldi se ilaaj kara lo All the best
 
 
840 days ago
Teri aawaj sunkar dil hi dil me muskurati hu..
Teri aawaj na aaye toh pal me toot jati hun
Teri aawaj ye meri kisi din jaan le legi...
Teri aawaj sunkar saans lena bhul jaati hu...
 
 
840 days ago
इसी कशमकश मे गुजर जाता है सारा दिन...
कि तुमसे बात करूँ...
या तुम्हारी बात करूँ...✍
 
 
840 days ago
Teri aawaj hai jiss sasa kismat sanvarti hai...
Teri aawaj pal pal zindagi me rang bharti hai..
Sada auron ki kaano se kabhi dil tak nahi aati...
Teri aawaj jaise rooh ke bhitar utarati hai...
 
 
840 days ago
Reply from ur lost friend:
यूँ तो एक आवाज दूँ और बुला लूँ तुम्हें मगर...
कोशिश ये है कि खामोशी को भी आजमा लूँ जरा...!!
 
 
840 days ago
Rating: 10
 
 
840 days ago
है शायद बहुत नाराज़ वो तुझसे
 
 
840 days ago
Hahahaha 😂😊😁
 
 
840 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]