पुराना ख़त....

by: 📒My Diary✍❤My Life✍ ✍.. (on: Sep 28, 2018)
Category: Other   Language: Hindi
tags: ..
ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में

शाम के साए बालिश्तों से नापे हैं
चाँद ने कितनी देर लगा दी आने में

रात गुज़रते शायद थोड़ा वक़्त लगे
धूप उन्डेलो थोड़ी सी पैमाने में

जाने किस का ज़िक्र है इस अफ़्साने में
दर्द मज़े लेता है जो दोहराने में

दिल पर दस्तक देने कौन आ निकला है
किस की आहट सुनता हूँ वीराने में

हम इस मोड़ से उठ कर अगले मोड़ चले
उन को शायद उम्र लगेगी आने में
score: 9.45637
average: 9.71429
Ratings: 8
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
779 days ago
Beautiful
 
 
779 days ago
Rating: 9
 
 
781 days ago
Rating: 10
 
 
784 days ago
Rating: 1
 
 
784 days ago
Thanks friends
 
 
785 days ago
Nice one
 
 
786 days ago
बहुत सुंदर एवं दिल को छूने वाली 🌹
 
 
786 days ago
Rating: 9
 
 
786 days ago
super yaadne
 
 
786 days ago
Rating: 10
 
 
787 days ago
Rating: 10
 
 
789 days ago
Thanks sham😊
 
 
789 days ago
Very nice.....Aradhanaji
 
 
789 days ago
Beautiful write up one song for this don't know fit or not zara se ahahat hoti hai tu dil kheta kanhi yeh woh tu nahi my fav song
 
 
789 days ago
Rating: 10
 
 
789 days ago
Beautiful
 
 
789 days ago
शाम के साए बालिश्तों से नापे हैं
चाँद ने कितनी देर लगा दी आने में
 
 
789 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]