बीखर ना जाए !!

by: anand anand (on: Oct 31, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem
घौंसला ए दिल, सुमसाम लगता है , जिंदगी
यह तिनका तिनका सफर, बीखर ना जाए !!

जज़्बात की बात है, उलझन बन गई जिंदगी
अपनापन पराया होकर सफर,बीखर ना जाए !!

ना राज़ है तिलस्मी कोई, फकत है दिलरुबाना
मिटाने की फितरत का सफर, बीखर ना जाए !!

मौज ए मस्त दरियादिली का हुश्न है जिंदगीका
साहिल तरफ आती यह सफर,बीखर ना जाए !!

मैं मिला ही नहीं , फीर बीछडने का ग़म क्यु हैं?
मुसाफिर हुं , रुहानी यह सफर, बीखर ना जाए !!

score: 9.33902
average: 9.5
Ratings: 7
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
756 days ago
Thanks all friends
 
 
756 days ago
Thanks all friends
 
 
757 days ago
Bahut khub !!! (◔ ‿◔)
 
 
757 days ago
Rating: 9
 
 
757 days ago
Rating: 9
 
 
757 days ago
Rating: 10
 
 
757 days ago
NICE
 
 
757 days ago
Rating: 9
 
 
757 days ago
मैं मिला ही नहीं , फीर बीछडने का ग़म क्यु हैं?
मुसाफिर हुं , रुहानी यह सफर, बीखर ना जाए !!
very nice
 
 
757 days ago
Rating: 10
 
 
757 days ago
Rating: 10
 
 
757 days ago
nice
 
 
757 days ago
Rating: 8
 
[View All Comments]