फितरत

by: anand anand (on: Nov 2, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem
आग को भी जलाती ,यह दिलरुबा फितरत मेरी
रेगीस्तानी लिबास में , बीरहाना फितरत मेरी

अश्कों को पी कर ,लाजवाब बहेती खून घाराएँ
बुलबुला उबलती लावा ,बीररहाना फितरत मेरी

तुटकर गीर पडेगा आसमान ,या बीजलीयाँ भी
रुहानियत खाक बनाती ,बीरहाना फितरत मेरी

झेलने की हद से परे ,बेहद में बेनकाब खुशनसीबी
सरेआम लूट लेती तपीश , बीरहाना फितरत मेरी

ओ रुसवाई आजा ,हुनर ए इश्क बनकर मनाही
दिल ए नूर तडपती रुह, बीरहाना फितरत मेरी
score: 9.30162
average: 10.0
Ratings: 1
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
738 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]