ये वक्त है साहब बदलता जरुर है...

by: upendra Singh (on: Dec 15, 2018)
Category: Other   Language: Hindi
tags: friends
बहुत डर लगता है मुझे उन लोगों से.....
जिनके चेहरे पर मिठास और दिलमें जहर होता है.....
जिंदगी गुजर गयी सबको खुश करने में......
जो खुश हुए वो अपने नही थे......
जो अपने थे वो कभी खुश नही हुए......
अनुभव कहता है खामोशियाँ ही बेहतर है.......
शब्दों से लोग रुठते बहुत है.......
कितना भी समेट लो हाथों से..
फिसलता जरुर है.....
ये वक्त है साहब बदलता जरुर है....
score: 9.59768
average: 10.0
Ratings: 8
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
164 days ago
Nice
 
 
164 days ago
Rating: 10
 
 
599 days ago
Rating: 10
 
 
600 days ago
ye waqt badalata jaroor hai sahab very well said bro
 
 
600 days ago
Rating: 10
 
 
600 days ago
👌👌
 
 
600 days ago
Rating: 10
 
 
601 days ago
world is Maya.
 
 
601 days ago
world is Maya.
 
 
601 days ago
Rating: 10
 
 
601 days ago
nice
 
 
601 days ago
Rating: 10
 
 
602 days ago
कितना भी समेट लो हाथों से..
फिसलता जरुर है.....
ये वक्त है साहब बदलता जरुर है....
BAHUT SUNDAR ... !! (◔ ‿◔)
 
 
602 days ago
Rating: 9
 
 
602 days ago
Sunder
 
 
602 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]