यकीनन

by: anand anand (on: Dec 22, 2018)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem

यु ही ना गुजरे , दौर ए हंसी ,। शबनम,
दो पल ठहर भी जाए जिंदगी यकीनन;

वक्त के साथ-साथ, बदल जाता है जहां,
अबदल आप में है, रुहानीयत यकीनन ;

बड़े शौक से पाला है, परिंदा ए हुश्न ,
उल्फत की जंजीरों में, कैद है, यकीनन;

रफ्ता रफ्ता बढ़ जाएगा, फा‌सला मिटेगा,
दुश्वार लगेगी ज़रा ज़रा दुरियां, यकीनन;

आनंद, होश में जीना, हकीकत में जिंदगी,
बेहोशी का बाजार है यह दुनिया, यकीनन;
score: 9.43918
average: 10.0
Ratings: 4
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
593 days ago
Thanks
 
 
593 days ago
Rating: 10
 
 
593 days ago
WONDERFUL
 
 
593 days ago
Rating: 10
 
 
594 days ago
Thanks..pooja
 
 
594 days ago
Bhot khub
 
 
594 days ago
Rating: 10
 
 
595 days ago
nice
 
 
595 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]