Sayri

by: anand anand (on: Jan 3, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Poem
मौत महेबुबा है, जिंदगी जीस्मी आलम में,
होश ओ फुर्सत में , कब्र की खबर होती है

रूहानीयत में सदाबहार आलम है जिंदगी
नूरानी हाल खुशनुमा , दिलकी खबर होती है

**"*****

तलबदार है दिल, यकीनन, दुनिया
इन्तज़ार ए आलम, बहुत खास है

मौज ए दिल, आब सी ठंड लहरियां
नाम ए वफा, यह बीलकुल खास है

*********
score: 9.37792
average: 10.0
Ratings: 3
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
262 days ago
Rating: 10
 
 
583 days ago
nice
 
 
583 days ago
Rating: 9
 
 
584 days ago
lajwab khubsurat
 
 
584 days ago
मौत महेबुबा है, जिंदगी जीस्मी आलम में,
होश ओ फुर्सत में , कब्र की खबर होती है
 
 
584 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]