वैलेंटाइन डे ........p-2

by: sharu------ . (on: Feb 14, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: RAJ......N.....SHARU
४।

हाँ यह तो है सच ,छोड़ नहीं सकते ,
न ,न ,करते हम कर लेते हैं राजी
कदम से कदम मिला लेते है मजबूरन
यह भी सच है मार्केटिंग के भी हाथ है
वैलेंटाइन डे को धूम धाम करने में ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,शरू ,,,५।५५
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

बिगड़ गईं ही नई पीढ़ी इंटेरनेट और बाजारवाद के सोहबत से
चलो कमसेकम एक दिन तो लोगों में गुजरे प्यार मोहब्बत से ।
मैं तो कहता हूँ कि एक दिन प्यार के लिए बहुत कम है यार ।
साल के पूरे 365दिन मुक़र्रर होने चाहिए करने के लिए प्यार ॥
।,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज ॥ ।६।०३
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
५।
ठीक कहते हो आप कवि वर
प्यार होनी चाहिए साल भर ,हर दिन
मगर मन के अंदर ह्रदय में भर कर
सडकों में लड़की लड़का चूमना बंद करे
कोई विदेशी नाचते हैं तो हम क्यों नाचे ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,।शरू ,,,६।09
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
हम भी तो यही चाहते हैं आए ना संस्कृति पर कोई आंच
बंद होना चाहिए अश्लीलता का खुल्लमखुल्ला नंगा नाच ।
पर अब इंटेरनेट से प्रभावित नई पीढ़ी को समझाए कौन ?
हमें क्या लेना देना सोचकर रह जाते हैं सभी मौन ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज ॥ ,,,,,,,,,,,६।१९
xxxxx।xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
६।
ऐसी होना चाहिए हमारी शिक्षण
की हमारी नयी पीढ़ी खुद समझे
हमारी परंपरा ,हमारी संस्कृति
उन्हें हो हमारी देश की रीत रिवाज़ पर नाज़ ।,,,,,,,,,,,,,,,,,,शरू ६,२४
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
हमारी शिक्षण पद्दति या संस्कृति पर नहीं है कोई खोट
दरअसल ये बाजारवाद का और नेट का है जमाने पर चोट
कुछ नए जमाने ने युवा पीढ़ी को लिया है मजबूत पकड़
कुछ विदेशी कुरीतियों ने भी आम भारतीयो को लिया है जकड़ ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज ॥
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
score: 9.48946
average: 10.0
Ratings: 5
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
539 days ago
tnq YOSHO JI.....for a good authentic feed back on valentine day
 
 
539 days ago
tnq sharmaji
 
 
539 days ago
TNX friends for good feedback
 
 
541 days ago
Rating: 10
 
 
541 days ago
Valentine Day a western culture taken up by us, Any culture if taken in the right sense and spirit will be good for the society, but blindly following a culture only will lead to chaos all the while Western world is trying to copy Indian Culture. All the same very well written by both Sharu and Raj after a long time, Keep it up and Thanks for Sharing
 
 
541 days ago
Rating: 10
 
 
541 days ago
HRIUDAYA KA PYAR PREM KAHALATA HAI AUR BAHARI DIKHAVE KA PYAR VASANAA KAHALATA HAI.
 
 
541 days ago
Rating: 10
 
 
541 days ago
tnq......BALI SAAB..... N ....PRATAP
 
 
541 days ago
Rating: 10
 
 
541 days ago
Wow nice one you have good knowledge and writing command
 
 
541 days ago
very good and very true very nice Jeeeeeeeee
 
 
541 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]