................. टेररिज्म ,.................

by: sharu------ . (on: Mar 1, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: RAJ......N.....SHARU
,,,,,,,,,,,,,,,,, टेररिज्म ,,,,,,,,,,,,,,
१,
यह उग्रगामियों को क्या कहे,,,,?
क्या इनका माँ बाप नहीं ,,,,?
कोई बीबी ,भाई ,बहन नहीं ,,?
क्यों यह लोग खून के प्यासे हैं ,,,,,?,,,,,,,,शरू ३,३१

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

इन उग्रवादियों का ना कोई माँ बाप होते हैं
ना ही होता है इनका कोई बहन ना कोई भाई
आतंक ही इनका धर्म है ईमान है मजहब है
इंसानियत नहीं इनमे ये हैं बिल्कुल कसाई ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज ॥ ३,३६

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx


इनको हम भारतवासियों पर
क्यों है इतना गुस्सा ।
यही से ही तो निकले थे वे
यह नाते से हुए हमारे भाई ,,,,,,,,,,,,,,,,,,शरू ३,४६

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

भले कहीं से निकले हो नहीं है इनका कोई वतन
सिर्फ भारत ही नहीं ये है पूरे विश्व के दुश्मन ।
मजहब के नाम पर भोले नौजवानों को बहकाना
इनका काम ये बस इंसानियत का खून बहाना ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज ॥ ३,५३

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

क्या मिलता है इन को बहाने से खून ,,,,,,?
क्यों नहीं रहने देते दुनिया में अमन ,,?
कितना माँ बहनो का मिला होगा शाप इनको
मिलता है जन्नत ,खून बहाने से, कहना है इनका।,,,,,,,,,शरू ३,५८

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

जिहाद से मिलेगा जन्नत, इनका तो यही है गलतफहमी
72 हूरें के लालच में खून से रंग देते हैं ये अपनी ही सरजमीं ।
इन काफिरों को तो खून बहाने से ही मिलता है चैन
ये अमन के दुश्मन हैं मरकर भी शायद ही मिलता है इनको चैन ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज,,,,,,,,,४,०८
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

इन्हे मरना है तो मरे अपने ही देश में
भारत देश के अंदर आते हैं क्यों यह दरिंदे ,,,,,,,?
आज़ादी के बाद खोये हैं हम कितने जान
किया है क्या ऐसी गुनाह हम भारत की वासी ,,,,,,,,,शरू ,,४,१३
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

इनका ना कोई देश होता है ना कोई वतन
हमेशा खून बहाने का करते है ये बस जतन ।
हम भारतवासी का तो बस यही है गुनाह
उस मुल्क के साथ नरमी बरती जिस मुल्क ने दिया इनको पनाह ॥ ,राज,,,4.20
score: 9.53147
average: 10.0
Ratings: 6
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
618 days ago
Rating: 10
 
 
636 days ago
Rating: 10
 
 
637 days ago
TNQ ........YOSHO JI ,,SINGH JI,,,PRATHAP JI
 
 
637 days ago
Terrorists--इनका ना कोई देश होता है ना कोई वतन

Wonderful Sharu, You and Raj have always risen to the occasion and given your accurate appreciation of the situation. Thanks for sharing
 
 
637 days ago
Rating: 10
 
 
637 days ago
wow.............
 
 
637 days ago
Rating: 7
 
 
637 days ago
excellent
 
 
637 days ago
Rating: 10
 
 
637 days ago
bahut sundar likha hai RAJ.....TNQ
 
 
637 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]