........ज़िन्दगी और कुछ नहीं ....jugal band

by: sharu------ . (on: Mar 15, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: RAJ......N.....SHARU
........ज़िन्दगी और कुछ नहीं ....jugal bandi
1
तुम हो मेरे दिल के पास
फिर क्यों है दिल तेरा उदास ?
हो तुम तो बहुत ही जहीन
फिर जाना क्यों हो तुम ग़मगीन ?
........................................................................राज...३.०० p m

दिन बदल जाता है अँधेरी रात में ,
ऋतू एक के बाद एक बदलते रहते है ,
इंसान के अंदर भी होता है उतार चढाव ,
अब एक भाव है तो दूसरा ही फल दूसरा भाव ..............शरू ३.३५pm

2
दिन की तरह तुम कहीँ डूब न जाना ,
मौसम की तरह कहीँ तुम बदल न जाना ,
लाख आए उतार चढाव ज़िंदगी में ,
मौकों की तरह कहीँ तुम फिसल न जाना ॥
.........................................................................राज..३.४० pm

कोशिश तो यही रहेगी हमेशा मेरी
मुसाफिर के तरह आगे निकल न जावू
रुख जावू डेरा डाल के एक जगह
फिर भी इंसान होता है विधि के मोहताज .!.................शरू..३.४४pm

3
हमारे प्यार मे विधि का न कोई दखल हो ,
कसम है विधि के नियम को बदल दो ।
खुदा से माँगलूँ तुम्हे तुम पर हक़ है मेरा ,
सदा के लिए डालदो तुम मेरे दिल पर डेरा ॥
.........................................................................राज...३.50pm

मान लिया आप को,आज भी है वही तेवर ,
जो देखी थी बरसों पहले यहां पर यार ,
विधि की नियम को बदल डालने की हिम्मत ,
और खुद को देवदास पारो बनाने की ताकत .............शरू..३.५६pm

4
चाहे जैसे हो हालात ज़िंदगी की रफ्तार कभी न हे थम ,
प्यार मे तेवर बदल जाए तो यारा प्यार हो जाता है कम ।
कसकर रखता हूँ ज़िंदगी को, कभी न देता ढील ,
दुनियाँवालों से देखना एक दिन तुमको लूँगा मैं छीन ॥
..........................................................................राज..४.०३pm

वाह !....क्या ज़िन्दगी है एक घोडा गाडी ?
जो तुम कसके पकड़के रखोगे ..?
ज़िन्दगी कब, कैसे फिसल जाए कोई न जाने ,
रेत् की तरह उंगुलियों के बीच में से अपनी................शरू ४.०७ pm
score: 9.41504
average: 9.66667
Ratings: 7
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
447 days ago
TNQ SANTOSH JI ..N..RAMESH JI N JASWANT JI...........for nice comments
 
 
447 days ago
nice lines
 
 
447 days ago
Rating: 10
 
 
447 days ago
बहुत ख़ूब 9417217380
 
 
448 days ago
nice
 
 
448 days ago
Rating: 10
 
 
448 days ago
Tnx ..YOSHO JI,RAMESH JI,Mr.ROYAL ,SHREYANSH JI,..N..PANDYA JI
 
 
448 days ago
nice ..
 
 
448 days ago
Rating: 5
 
 
448 days ago
Rating: 8
 
 
448 days ago
Rating: 10
 
 
448 days ago
Rating: 10
 
 
448 days ago
क्या ब।त है, क्या ब।त है, Beautifully composed n wonderful meaning the depth of which is awesome. Thank you Sharu n Raj for the beautiful Judalbandi .ज़िन्दगी और कुछ नहीं.........................
 
 
448 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]