एहसास

by: Saloni (on: May 2, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: तुम
तुम ने कभी नींद का दीदार नहीं किया शायद ,
तुम ज़माने के रखवाले में फ़ना होते चले गए।
खुद तुम्हारे अपने ख़फ़ा हो गए तुमसे,
तुम क्या थे और क्या होते चले गए।
सलोनी
score: 9.30162
average: 10.0
Ratings: 1
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
574 days ago
great
 
 
574 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]