कमी

by: Saloni (on: May 6, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: नमी
शाम से आँखो में नमी सी है,

यूँ लगता है तुम्हारी कमी सी है,

क्यों किया था तुमसे प्यार ,

दिल है बहुत बेकरार,

सब इलाज ऐ हाकिम किया ,

न दिल का दर्द गया ।

सलोनी
🌻🌻🌻
🌸🌸🌸
🏵️🏵️🏵️
score:
average:
Ratings:
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!