,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,सैनिक ,,,,,,,

by: sharu------ . (on: May 20, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: sharuu.......n........raj
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,सैनिक ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
१।
सरहद में दिन रात पहरा देते हैं
हमारी सैनिक जागा रह कर
जिसकी वजह से हम सोते हैं
चैन की नींद बे फ़िक्र देश के अंदर ,,,,,,,,...................शरू ५,०१

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

तीज त्यौहार खुशी से रहते हैं जो अंजान
खुशी से देश की खातिर करते हैं जान कुर्बान ।
ना सर्दी गर्मी बरसात ना दुश्मन की गोली की फिक्र
ऐसे देश के वीर सैनिको को दिल से हमारा सलाम । 🙏 🙏 🙏
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,।.... ..राज..६।४४

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

२।
यह सैनिक तो हमारी देश की शान
उनका लोग जो पीछे छोड़ आये हैं
उनको संभालना न केवल सरकार के ही काम
मुश्किल के गड़ी में संभालना होगा हम अवाम,,,,,,,.......शरू ,,,६।४९

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

इनके लिए कोई होली दिवाली ना कोई ईद
पर देश के लिए जो सैनिक ho।जाता है शहीद ।
पूरा देश उसके परिवार के साथ है मुश्किल में
देश के हर सैनिक को रखता है यही उम्मीद ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,...................राज ६।५७
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
३।
अगर सैनिक होजाता है एक बार
अपनी परिवार के बारे में बेफिक्र
वोह तो अपना तन मन से होगा कुर्बान
अपनी देश केलिए लड़ते लड़ते ख़ुशी से ,,,,,,,,,,,..............शरू ७।०४

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

जब सैनिक करता है देश की सरहद की हिफाजत
तो कोई डर या परिवार के फिक्र की नहीं है इजाजत ।
दुश्मन के सामने से नहीं हटेगा हरएक जवान
परिवार से ज्यादा है जिनको प्यारी देश की इज्जत ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,.......राज॥ ७।१०

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

४।
वह तो करेगा ही अपनी जिम्मेवारी पूरा
हमारी भी कुछ फ़र्ज़ बनती है न उनकी ओर
हमारी फॅमिली को करनेवाले है देखभाल
यह सोचकर वे लड़ेंगे डबल जोश से है ना बोल ,,,,,,..........,शरू ,,७।१६

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

हाँ बात तो आपकी बिल्कुल सही है यार ।
पर अक्सर उपेक्षित ही रहता है शहीदों का परिवार ।
ना देश की अवाम करती है शहीद के परिवार की फिक्र
शहीद का दर्जा देकर उनके परिवार को भूल जाती है सरकार ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,...............राज ॥ ७।२८
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

यही तो कहना था हमें आप से भी सर्कार से भी
सैनिक होजाये बे फ़िक्र अपनी परिवार के तरफ से
और उनको अच्छा खाना और बुलेट प्रूफ जैकेट मिले
हाथ में लेटेस्ट बंदूके रहे युद्ध का विमान और टैंकर रहे ,,,,,,,शरू ७।३५

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

देश की सरहद पर निगाह डालना जाए भूल
देश के दुश्मन को पल भर में चटा दें धूल
ना खाना ना बंदूक ना जेकेट बुलेट प्रूफ
बस हौंसले से जीत जाते है हमारे जवान युद्ध ॥
...........................,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,..राज ॥ ७।50

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

अरे यह क्या कह दिया आपने यार ,,?
हौसला भी चाहिए हमारी सैनिकों में
केवल हौसला से काम होगा तमाम
दुश्मन की बन्दुक सी निकली हुई गोली
कर देगी हमारी निशस्त्र सैनिकों की छाती चलनी ,,,,,,,,,,.......शरू ७।५६

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

हमारे सैनिकों के हौंसले की रफ्तार अभी थमी नहीं है
और हमारे देश में आधुनिक हथियारों की कमी नहीं है ।
तभी तो कोई भी नहीं करता देश की तरफ आँख उठाने की हिम्मत ।
जान देकर चुकानी पड़ती है दुश्मन को घुसपैठ की कीमत ॥
...............,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज..॥ ८।०६
score: 9.55823
average: 9.875
Ratings: 9
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
555 days ago
tnx sushil ji
 
 
555 days ago
Rating: 10
 
 
555 days ago
Jai Hind
 
 
555 days ago
Beautiful poem .....love it thanks for sharing
 
 
555 days ago
tnx R P
 
 
555 days ago
inspiring and informative.
 
 
555 days ago
Rating: 9
 
 
556 days ago
Ess kumar ji.......nice to know u r a soldier ....tnq somuch for ur comment......for being a proud soldier.....we raj n I have written a lot of poems n jugal bandis about our country n soldiers
 
 
556 days ago
Dear friend thank u so much. I also put services in Army
 
 
556 days ago
Rating: 10
 
 
556 days ago
tnq very much SHIVAPRASAD JI
 
 
556 days ago
very nice. very True
 
 
556 days ago
Rating: 10
 
 
556 days ago
jaswant ji,vijay ji , chopraji .......naman
 
 
556 days ago
RAKESH SHARMA JI ,SANJAY SAHAY JI ......anantanant pranaam ji.....khushi ke aasuun aye
 
 
556 days ago
I salute you for your sweet thoughts for our Armed forces very true
 
 
556 days ago
Rating: 10
 
 
556 days ago
Nice
 
 
556 days ago
Rating: 9
 
 
557 days ago
Rating: 10
 
 
557 days ago
Wow, in modern "sms period", a poet like you reminds the poet like Makhan lal chaturvedi.
 
 
557 days ago
Rating: 10
 
 
557 days ago
nice
 
 
557 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]