,,,,,,,,,,,,,,,,नारी अब नहीं बेचारी,,,,,,,,,,,,,,,

by: sharu------ . (on: Jun 4, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Sharuu.......n........Raj
,,,,,,,,,,,,,,,नारी अब नहीं बेचारी,,,,,,,,,,,,,,,


पछास प्रतिशत महिला की आबादी
मगर कही नहीं थी उन की गिनती
हर जगह पुरुषों के अधिकार होती थी
अब सही मायने में महिलावों को भी
उन की अधिकार मिली ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,शरू ,,,५।५८ pm

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

गांव शहर गली गली में सबको ये ऐलान कर दो जारी ।
पचास फीसदी आबादी अब पड़ने लगी है सब पर भारी ॥
पुरुषो से कंधे से कंधा मिलाके चल रही है साथ साथ ।
अब कोई भी कहीं भी नहीं रही अबला अब नारी ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज॥ ६।४६pm

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

२।
हाँ , अब हर जगह महिला ही दिखती
सेना में होती है पोलिस में है दिखती
बंगड़ी पहननेवाली हात सर्कार चलाती
घर संभलकर बाहर भी काम है करती ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,शरू ,,६।५२ pm

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

पुरुषो के मन में नारी को लेकर अब भी भेद है
पर नारी का यू आगे बढ़ना एक अच्छा संकेत है ।
हर क्षेत्र में नारी होने लगी है अब तो भागीदार का
मुँह तोड़ जवाब देने लगी है पुरुषो के अत्याचार का ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज ,,७।॥ ०२ pm

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

३,
भारत वर्ष में नारी को दियादर्जा देवी की
मगर युगों से किया व्यवहार दासी जैसी
त्रेता युग में भूमि पुत्री सीता को मिली
अग्नि परीक्षा और वनवास तो
द्वापर में कितना दुःख द्रौपदी को झेलनी पड़ी ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,शरू ,,,,७,०९ pm

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

पिछले सभी युगों की बात हुईइस युग आप पुरानी ।
अब तो नारी अच्छों अच्छों को याद दिलाती है नानी ॥
गाली गलौच मार या अत्याचार अब नहीं सहने वाली
जरूरत पड़ने पर नारी बन सकती है दुर्गा और काली ॥
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राजेश॥ ७,१६ pm

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx


भले ही नारी कुछ भी बने इस देश में
क्यों बन जाती हैं मर्द के सामने बिल्ली
क्यों होती है हर दिन उसके ऊपर अत्याचार ?
क्या आड़े आती है उसको दिए हुई संस्कार ,,,?,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,.......शरू ,,७,२१ pm

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

कुछ भी कहो अब नारी के पैरों तले जमी आई है
आंकड़े कहते हैं नारी पर अत्याचार में कमी आई है ॥
अब डरके चुपचाप नहीं बैठती जो कहलाती थी अबला ।
हर मुश्किल का करने को तैयार रहती है अब मुकाबला ॥
...............,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,राज ॥ ७,३१ pm
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
score: 9.48946
average: 10.0
Ratings: 5
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
540 days ago
tnq shiba ji ,sujeet ji .....jaswant ji
 
 
541 days ago
nice
 
 
541 days ago
Rating: 10
 
 
541 days ago
Rating: 10
 
 
541 days ago
So nice sharu, sure you win the race
 
 
541 days ago
tnx SATYA JI ......N.......SHIVPRASAD JI
 
 
542 days ago
Rating: 10
 
 
542 days ago
Nari shakti ko naman
 
 
542 days ago
Very good
 
 
542 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]