जीने का मज़ा

by: Saloni (on: Jun 24, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: मज़ा
ज़िन्दगो जीने के लिए अपना ही मज़ा है!

बच्चपन से जवानी का अपना ही मज़ा है!

बुढ़ापे तक जीने की उम्मीद क्यों करो यारो !

जीवन जीने का अपना ही अलग नशा है!

दोस्तों संग मस्ती करने का अपना ही मज़ा है!

किसी को प्यार तो किसी को इक़रार में मज़ा है!

मोहब्बत कर के जो वादा निभाये उनमे अपना ही माज़ा है!


खुल के हँसने का अपना ही नशा है!

जो दुःख सुख में साथ निभाए
वही असली माज़ा है यारो!

सलोंनी
score: 9.53147
average: 10.0
Ratings: 6
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
498 days ago
Nice... Khul ke hansane ka apna hi nasa hai
 
 
498 days ago
Nice... Kul ke hansane ka apna hi nasa hai
 
 
498 days ago
Rating: 10
 
 
498 days ago
Rating: 10
 
 
498 days ago
Rating: 10
 
 
498 days ago
Rating: 10
 
 
515 days ago
Rating: 8
 
 
517 days ago
Jeena isi ka naam hai....
 
 
517 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]