पहचान

by: Saloni (on: Jun 26, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: दिल
हाँ एक पल आया ,
मायूसी सी भरी हुई थी मेरी ज़िन्दगी।

न जीने की इच्छा दिल में,
न कुछ करने की ख्वाइश ।

न अपनों का साथ ,
न कोई पहचान।

हाँ एक पल आया ,
आज ज़िन्दगी खूबसूरत लगने लगी,

दिल में तमन्ना जग गयी,

कुछ अछा करने की इच्छा जग गयी,

कुछ अच्छा लिखने की आग ,
दिल में जग गयी।

अब अपनों का साथ ,

और ,

मेरी पहचान।

सलोनी
🌼🌼🌼
🌸🌸🌸
🌷🌷🌷
score: 9.48946
average: 10.0
Ratings: 5
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
508 days ago
Nice lines :-)
 
 
508 days ago
Rating: 10
 
 
515 days ago
Rating: 8
 
 
515 days ago
Rating: 10
 
 
515 days ago
Rating: 10
 
 
517 days ago
Zindagi ko barish mil gayi... aur armaan fir panapne lage😊.... gulzaar khubsurat zindagi fir ek baar hone ko hai....
 
 
517 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]