💐hmmm

by: $weet $mile....✍ (on: Jul 23, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: ...
आँखें पलकें गाल भिगोना ठीक नहीं
छोटी-मोटी बात पे रोना ठीक नहीं|

गुमसुम तन्हा क्यों बैठे हो सब पूछें
इतना भी संज़ीदा होना ठीक नहीं

कुछ और सोच ज़रिया उस को पाने का
जंतर-मंतर जादू-टोना ठीक नहीं

अब तो उस को भूल ही जाना बेहतर है
सारी उम्र का रोना-धोना ठीक नहीं
score: 9.30162
average: 10.0
Ratings: 1
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
479 days ago
😢😢😢😢😢😢😢
 
 
479 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]