आखरी साँस तक हम तुम्हें भुलायेंगे नहीं

by: upendra Singh (on: Aug 4, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: Friends
किस्से कहानियों में तो बहुत हैं पर
असल जिंदगी की बात सुनाता हूँ
चाँद दोस्त हैं मेरी जिंदगी में ,
जिन्हें मैं हीरा बुलाता हूँ
इंतजार था किसी खास मोके का ,
जब पल में कुछ कहूं उनसे ,
जरा गौर से सुनो तुम भी ,
बनके अजनबी मिले हो तुम,
जिंदगी के सफर में ,
साथ बिताये लम्हों को मिटायेंगे नहीं ,
ए दोस्त तू याद कर या न कर ,
पर वादा है तुमसे ,
आखरी साँस तक ,
हम तुम्हें भुलायेंगे नहीं
score: 9.60974
average: 9.9
Ratings: 11
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
604 days ago
Excellent
 
 
604 days ago
Rating: 10
 
 
620 days ago
Thanks
 
 
620 days ago
nice
 
 
642 days ago
ए दोस्त तू याद कर या न कर ,
पर वादा है तुमसे ,
आखरी साँस तक ,
हम तुम्हें भुलायेंगे नहीं.!
.....Nice said....
 
 
642 days ago
Rating: 10
 
 
643 days ago
very nice
 
 
643 days ago
Rating: 10
 
 
643 days ago
Rating: 9
 
 
643 days ago
Bahut khoob
 
 
643 days ago
Rating: 10
 
 
643 days ago
Real friendship
 
 
643 days ago
Rating: 10
 
 
643 days ago
Rating: 9
 
 
643 days ago
nice
 
 
643 days ago
nice
 
 
643 days ago
Rating: 10
 
 
643 days ago
nice. Long live friendship.
 
 
643 days ago
Rating: 10
 
 
643 days ago
Rating: 10
 
 
647 days ago
Wah kya khub likhe ho
वातावरण को जो महका दे उसे ‘इत्र’ कहते हैं
जीवन को जो महका दे उसे ही ‘मित्र’ कहते हैं


 
 
647 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]