प्यारी शाम

by: Saloni (on: Nov 6, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: प्यारी शाम
वो प्यारी शाम
वो अाई नहीं है वैसी शाम
जो थी मां के नाम ।

खुशियों से भरी हुई थी वैसे शाम
मां के साथ
गमों में बदल गई अब वैसे शाम
दर्द में बदल गई वैसी शाम
आब नहीं आएगी वैसी शाम।
सलोनी



score: 9.30162
average: 10.0
Ratings: 2
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
342 days ago
Rating: 10
 
 
367 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]