मुसाफ़िर...

by: 📒My Diary✍❤My Life✍ ✍.. (on: Nov 12, 2019)
Category: Other   Language: Hindi
tags: My Diary
कहां आंसुओं की ये सौग़ात होगी
नए लोग होंगे नई बात होगी

मैं हर हाल में मुस्कुराता रहूंगा
तुम्हारी मोहब्बत अगर साथ होगी

चराग़ों को आंखों में महफ़ूज़ रखना
बड़ी दूर तक रात ही रात होगी

परेशां हो तुम भी परेशां हूं मैं भी
चलो मय-कदे में वहीं बात होगी

चराग़ों की लौ से सितारों की ज़ौ तक
तुम्हें मैं मिलूंगा जहां रात होगी

जहां वादियों में नए फूल आए
हमारी तुम्हारी मुलाक़ात होगी

सदाओं को अल्फ़ाज़ मिलने न पाएं
न बादल घिरेंगे न बरसात होगी

मुसाफ़िर हैं हम भी मुसाफ़िर हो तुम भी
किसी मोड़ पर फिर मुलाक़ात होगी
score: 9.37792
average: 10.0
Ratings: 3
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
379 days ago
Rating: 10
 
 
380 days ago
Rating: 10
 
 
380 days ago
Nice ....Main harbal me . Men muskurata rahunga.... Tumhari mohabbat agar sath hogi........
 
 
380 days ago
Kya farka padta hai😜😜😜
 
 
380 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]