तुम उस किताब की तरह

by: Saloni (on: Dec 25, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: किताब
काश तुम्हे पढ़ कर समझ सकती
तुम उस किताब की तरह हो
तुम से मिलकर सारा हिसाब ले सकती
मालूम तो चले तुम कौन सी हो हस्ती
फिर भी पूरी किताब बड़े शिद्दत से पढ़ती
और खो जाती
तुम्हारे हर अल्फ़ाज़ है गहरे
कौन से रहस्य से भरे
मेरे समझ से परे
score:
average:
Ratings:
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!