,,,,,,आखिर क्यों ,,?

by: sharu . (on: Dec 31, 2019)
Category: Poem   Language: Hindi
tags: sharuu
,,,,,,आखिर क्यों ,,?

आँखों से आंख मिले
क्यों मिले ,,?
सांसों से सांस मिले
क्यों मिले,,?
विचार से विचार टकराये
तो क्यों टकराये ,,?,,,,,,,,,,,.........शरू

XXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXX

रोज़ मरनेवालों को
रोये कौन ,,,,,?
एक व्यक्ति की
नहीं रहने से
कुछ न बदलती है
सूरज भी उगेगा
और चाँद भी ,,,,,,,,,,..................शरू

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

जुकना सीखो
अच्छी भी नहीं
इतना गुरुर ,,,,
आम भरी पेड़ जुकता है
जमींन की तरफ
जुकना सीखो ,,,,,........................,शरू

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
आया है तो
जाना भी है
राजा महाराजा
राम कृष्णा साधु संत
कोई भी नहीं रुक पाए ,,,,,,,,,............शरू

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

फूलों से फूलों को
उड़ना ही काम है भ्रमर का
एक का मकरंद हुआ ख़तम
तो दूसरा फूल को ढूंढ़ता है
बस इक परवाना ही तो है
शमा केलिए जान भी देता है ,,,,,,,,,.....शरू

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

है छह बज ते ही सूर्य अस्त होता है
सागर के आगोश में चले जाता है
दिन भर का थकानवह मिटाता है
कहता है दिन भर वह बिजी रहता है
उसकी किरणे पहुंचा नहीं हमतक
इसमें उसकी क्या खता है ,,,,?,,,,,,,,,,,शरू
XXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXXX
score: 9.38572
average: 9.57143
Ratings: 8
 
« send to friends»
URL (link) to this writing. You can copy and paste this in your email to send to your contacts:
 
Not good
Ok
Excellent!
 
 
 

Comments

[View All Comments]
 
51 days ago
बेहतरीन
 
 
51 days ago
Rating: 10
 
 
372 days ago
Superb!!
 
 
372 days ago
Rating: 10
 
 
372 days ago
Excellent writing ma'am. Everything will be alright once again after my going yet I will remain in those memories who loves me . I like all writing ma'am
 
 
372 days ago
Rating: 10
 
 
388 days ago
आपका राज कहा गया जी?
 
 
388 days ago
Rating: 7
 
 
392 days ago
वाह वाह
 
 
392 days ago
tnq........chopra saab.......sudesh ji........vishnu ji........vijay ji
 
 
392 days ago
Rating: 8
 
 
392 days ago
Rating: 9
 
 
392 days ago
Bhut hi sunder Likha aapne
 
 
392 days ago
Rating: 10
 
 
392 days ago
Excellent
 
 
392 days ago
Rating: 10
 
[View All Comments]